जागरण संवाददाता, मधेपुरा: जिले में यूरिया की किल्लत के नाम पर खाद व्यवसायी किसानों का दोहन कर रहे हैं। किसानों को 266 रुपये में मिलने वाला यूरिया 350 रुपये से लेकर 450 रुपये तक में दिया जा रहा है। जिले में धड़ल्ले से हो रही यूरिया की कालाबाजारी को रोकने को लेकर कृषि विभाग सख्ती बरतने की बात कह रहा है। इसके लिए विभागीय स्तर से प्रतिदिन छापेमारी भी हो रही है, लेकिन कृषि विभाग की यह छापेमारी धरातल पर बेअसर साबित हो रही है। किसान यूरिया नहीं मिलने से काफी परेशान है।

किसानों का कहना है कि ग्रामीण इलाकों से यूरिया गायब है। ऐसे में किसानों को प्रखंड व जिला मुख्यालय तक यूरिया के लिए चक्कर लगाना पर रहा है। किसानों को यूरिया के लिए परेशान देख खाद व्यवसायी भी किल्लत का बहाना बना कर अधिक कीमत में किसानों को यूरिया बेच रहें हैं।

खुदरा विक्रेता कर रहे हैं मनमानी जिले में धान सहित अन्य खरीफ फसलों के लिए 25 हजार एमटी यूरिया की जरूरत है, लेकिन राज्य मुख्यालय से जिले को 21 हजार एमटी यूरिया का आवंटन दिया गया है। इसमें भी अभी तक सिर्फ 13 हजार एमटी यूरिया जिले को उपलब्ध हो सका है। यूरिया कम मात्रा में हो रही आपूर्ति को देखते हुए खाद के थोक व्यवसायी इसे अवसर मान रहे हैं। खाद व्यवसायी अधिक कीमत में खाद के खुदरा विक्रेता को यूरिया की आपूर्ति कर रहे हैं। खाद के खुदरा विक्रेता मनमानी कीमत पर किसानों को खाद बेच रहे हैं। अधिक कीमत देने से मना करने वाले किसानों को यूरिया नहीं होने की बात कही जा रही है।

कार्रवाई के बाद भी नहीं थम रही कालाबाजारी जिले में यूरिया की कालाबाजारी नहीं थम रही है। कृषि विभाग की ओर से अबतक नौ खाद विक्रेताओं का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है। तीन दुकानदारों के लाइसेंस को निलंबित किया गया है। 18 दुकानदारों से स्पष्टीकरण पूछा गया है। विभाग की इस कार्रवाई के बाद भी कालाबाजारी नहीं थम रही है। किसानों का कहना है कालाबाजारी के इस खेल खाद के थोक,खुदरा व्यवसायियों के मनमानी को रोकने के लिए सख्त कदम जिला प्रशासन को सख्त कदम उठाने की जरूरत है।

कोट यूरिया की कालाबाजारी को रोकने के लिए लगातार छापेमारी अभियान चलाया जा रहा है। किसानों को निर्धारित कीमत पर यूरिया की उपलब्धता सुनिश्चित हो इस दिशा में कृषि विभाग लगातार कार्य कर रही है। कालाबाजारी करने वाले दुकानदारों पर लगातार कार्रवाई हो रही है। -राजन बालन, जिला कृषि पदाधिकारी, मधेपुरा

Edited By: Jagran