जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को गुरुग्राम के सेक्टर-47 में स्वीडन के इंग्का सेंटर्स के उत्तर भारत में पहले आइकिया 'मिक्सड यूज कामर्शियल प्रोजेक्ट' के निर्माण कार्य का भूमि पूजन कर शुभारंभ किया। इस दौरान भारत में स्वीडन के राजदूत क्लास मोलिन भी उपस्थित रहे। आइकिया प्रोजेक्ट में लगभग 3500 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। मनोहर लाल ने कहा कि उन्हें यह जानकर प्रसन्नता हुई है कि भारत में आइकिया जो भी बेचता है उसका 27 प्रतिशत स्थानीय स्त्रोतों से लेता है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हरियाणा को कर्म की भूमि, संभावनाओं और समृद्धि की भूमि बताते हुए इंग्का सेंटर्स और आइकिया प्रोजेक्ट का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि प्रोजेक्ट के तहत बनाया जाने वाला माल उत्तर भारत तथा इस क्षेत्र के ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक विश्वस्तरीय रिटेल स्थल होगा। इससे निवेश के साथ-साथ रोजगार और व्यापार के अवसर में भी वृद्धि होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा सरकार प्रदेश में 'ईज आफ डूइंग बिजनेस' को संभव बनाने के लिए कई प्रभावी कदम उठा चुकी है और यह प्रोजेक्ट इस क्षेत्र के लिए हमारी विकास योजनाओं का एक और प्रमाण है। उन्होंने कहा औद्योगिक उत्पादन, डिजाइन और मैन्यूफैक्चरिग में मूलभूत परिवर्तन हो रहे हैं। डिजिटल प्लेटफार्म, आटोमेशन और डाटा फ्लो ने दुनिया में भौगोलिक दूरियों के महत्व को घटा दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बदलते औद्योगिक परिवेश में इनोवेशन तथा पारंपरिक उत्पादन हमारे युवाओं के लिए रोजगार के बड़े स्त्रोत होंगे। इसीलिए कौशल विकास और शिक्षा नीतियों में तेजी से बदलाव लाना होगा। मनोहर लाल ने प्रदेश सरकार की निवेशक हितैषी नीतियों को लेकर कहा कि हमारी सरकार अकाउंटबिलिटी, कम्युनिकेशन और ट्रांसपेरेंसी में विश्वास रखती है। आइकिया इंडिया की सीईओ सुसान पल्वरर ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

Edited By: Jagran