नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। Indian Army Officer Entry: भारतीय सेना में सरकारी नौकरी करने की इच्छा लगभग हर युवा में होती है। इंडियन आर्मी में ऑफिसर की भर्ती के लिए तो हर वर्ष लाखों युवा आवेदन कर करते हैं। भारतीय सेना में नौकरी से न सिर्फ अच्छा कैरियर, अच्छी जीवनशैली, घर-परिवार के लिए उच्च स्तर की सुविधाएं और अन्य लाभ मिलते हैं, बल्कि इससे देश सेवा का गौरव भी प्राप्त होता है। हम सभी जानते हैं कि भारतीय सेना भारत के सशस्त्र बलों में सबसे बड़ी है। भारतीय सेना का मुख्य मिशन है राष्ट्रीय सुरक्षा और एकता सुनिश्चित करने के लिए बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों से राष्ट्र की रक्षा करना।

यदि आप भारतीय सेना में एक अधिकारी के रूप में भर्ती होना चाहते हैं, तो हम आपको भारतीय सेना में शामिल होने के 5 ऐसे विकल्प बताने जा रहे हैं, जिनसे बिना परीक्षा सेना में अफसर बन सकते हैं। भारतीय सेना हर वर्ष विभिन्न शाखाओं में उम्मीदवारों की भर्ती के लिए एनडीए, सीडीएस, आर्मी कॉलेज कैडेट और अन्य सहित कई परीक्षाएं आयोजित करती है। आइए इनके बारे में बारी-बारी से जानते हैं।

10+2 टेक्निकल इंट्री स्कीम

यदि आप 12वीं उत्तीर्ण हैं और सेना में बिना परीक्षा अफसर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आर्मी टेक्निकल इंट्री स्कीम (टीईएस) के अंतर्गत आवेदन कर सकते हैं। किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ विषयों में कम से कम 70 फीसदी अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवार सेना में टीईएस के जरिए भर्ती हो सकते हैं। उम्मीदवारों की आयु सेना द्वारा निर्धारित कट-ऑफ डेट को 16.5 वर्ष से कम 19.5 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। उम्मीदवारों का चयन सर्विसेस सेलेक्शन बोर्ड (एसएसबी) द्वारा आयोजित किये जाने वाले इंटरव्यू के माध्यम से किया जाता है। इंटरव्यू प्रक्रिया 5 दिन चलती है।

यूनिवर्सिटी इंट्री स्कीम (यूईएस) इंट्री

यूनिवर्सिटी इंट्री स्कीम (यूईएस) के जरिए सेना के तकनीकी कोर में स्थायी कमीशन प्राप्त कर सकते हैं। इस स्कीम के तहत टेक्निकल कोर्स (बीई/बीटेक) के अंतिम वर्ष के स्टूडेंट्स आवेदन कर सकते हैं। इस स्कीम में भी चयन प्रक्रिया सर्विसेस सेलेक्शन बोर्ड (एसएसबी) द्वारा आयोजित की जाती है और इसके बाद मेडिकल टेस्ट होता है। इसके बाद उम्मीदवारों को 1 वर्ष की ट्रेनिंग के लिए इंडियन मिलिट्री अकादमी, देहरादून भेजा जाता है।

जेएजी (जूनियर एडवोकेट जनरल) इंट्री

भारतीय सेना अल्पकालिक कमीशन के आधार पर लॉ के क्षेत्र में योग्य उम्मीदवारों की नियुक्त करती है। भारतीय सेना जेएजी इंट्री के लिए आवेदन करने के लिए, उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से लॉ में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए और आय 21 से 27 वर्ष के मध्य होनी चाहिए। भारतीय सेना आवेदन पत्र के आधार पर उम्मीदवारों का चयन करती है। उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए आमंत्रित किया जाता है और वे सभी उम्मीदवार जो इंटरव्यू राउंड पास करते हैं उन्हें साइकोलॉजिकल टेस्ट और ग्रुप टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। अंतिम चयन के बाद, उम्मीदवारों को प्रशिक्षण के लिए चेन्नई स्थित अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (ओटीए) में भेजा जाता है। जिसकी अवधि 49 सप्ताह तक है।

टेक्निकल इंट्री – एसएससी (अल्पकालिक कमीशन)

टेक्निकल फील्ड में ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट उम्मीदवार भारतीय सेना में टेक्निकल इंट्री - एसएससी के लिए आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवारों का चयन एसएसबी और मेडिकल टेस्ट के आधार पर किया जाता है। चयनित उम्मीदवारों को ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडेमी (ओटीए) चेन्नई में 49 सप्ताह के प्रशिक्षण के लिए भेजा जाता है। इसके बाद सेना में अल्पकालिक कमीशन मिलता है।

टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स (टीजीसी) इंट्री

भारतीय सेना टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स (टीजीसी) स्कीम के अंतर्गत आफिसर के तौर पर भर्ती का मौका देती है। टेक्निकल कोर्सेस जैसे बीई/बीटेक कर चुके या अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के स्टूडेंट्स टीजीसी के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन के विवरणों के आधार पर शार्टलिस्ट किये गये उम्मीदवारों को एसएसबी इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है, जिसमें मेडिकल और पर्सनल इंटरव्यू के चरण होते हैं। सफल घोषित उम्मीदवारों को सेना में स्थायी कमीशन मिलता है।

Edited By: Rishi Sonwal