जागरण संवाददाता, कोलकाता। बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के अंतर्गत 141वीं वाहिनी के जवानों ने मुर्शिदाबाद जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास तस्करी की कोशिश को नाकाम करते हुए 10.99 किलोग्राम चांदी के आभूषण जब्त किए हैं। अधिकारियों ने बताया कि चांदी की बांग्लादेश में तस्करी की जानी थी। बीएसएफ के अनुसार जब्त चांदी की अनुमानित कीमत करीब सात लाख (7,03,360) रुपये आंकी गई है। एक बयान में बताया गया कि यह घटना शुक्रवार को बीएसएफ की सीमा चौकी दयारामपुर, 141वीं वाहिनी, सेक्टर बहरामपुर के इलाके में घटी।

जवानों ने एक व्यक्ति को अपने खेत में जाते हुए देखा। कुछ देर बाद वह अपने खेत से लाल पोटली में कुछ उठाता हुआ दिखाई दिया। संदेह होने पर जवानों ने जब उसे रुकने को कहा तो वह पोटली छोड़कर भाग निकला। पोटली की तलाशी लेने पर उसमें से 10.99 किलोग्राम चांदी बरामद की गई। बीएसएफ ने जब्त चांदी को आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए कस्टम आफिस जालंगी को सौंप दिया है। इधर, 141वीं वाहिनी के कमाडिंग आफिसर नागेन्द्र सिंह रौतेला ने इस सफलता पर खुशी जताते हुए जवानों की पीठ थपथपाई। उन्होंने कहा कि यह केवल ड्यूटी पर तैनात उनके जवानों द्वारा प्रदर्शित सतर्कता के कारण संभव हो सका है।

बता दें कि इससे पहले बीते 17 जुलाई को बीएसएफ की 112वीं वाहिनी के जवानों ने उत्तर 24 परगना जिले में सीमा चौकी हाकिमपुर क्षेत्र से साइकिल के टायर में चांदी को छिपाकर की जा रही तस्करी के प्रयास को विफल करते हुए पांच किलोग्राम चांदी के आभूषणों के साथ एक तस्कर को रंगे हाथों गिरफ्तार किया था।

तस्कर जवानों की नजरों से बचने के लिए चांदी को टायर में छिपाकर इसे सीमा पार बांग्लादेश में तस्करी करने की फिराक में था। उल्लेखनीय है कि बंगाल में भारत- बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीएसएफ की सख्ती की वजह से तस्कर आए दिन जवानों की नजरों में धूल झोंकने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाते रहते हैं, लेकिन सतर्क जवान उनकी हर चाल को विफल कर दे रहे हैं। 

Edited By: Priti Jha