लोहाघाट के कोलीढेक में स्थापित होगा आयुष ग्राम

संवाद सहयोगी, चम्पावत : मुख्यमंत्री की पहल पर आयुष विभाग ने भी चम्पावत को माडल जिला बनाने की कवायद शुरू कर दी है। इसी क्रम में लोहाघाट नगर से लगे कोलीढेक में आयुष ग्राम की स्थापना करने के साथ मैदानी क्षेत्र टनकपुर में 50 बेड का आयुर्वेदिक अस्पताल स्थापित किया जाएगा। आयुर्वेदिक विभाग के संयुक्त निदेशक डा. आरपी सिंह ने जिले का भ्रमण कर यहां आयुर्वेद के विकास की संभावनाओं को तलाशा। संयुक्त निदेशक ने मंगलवार की शाम कोलीढेक में आयुष ग्राम के लिए प्रस्तावित स्थल का निरीक्षण करने के बाद बताया कि आयुष ग्राम में पंचकर्म, आयुर्वेदिक नेचरोथेरेपी, यूनानी, योग आदि सभी चिकित्साएं उपलब्ध रहेंगी। यहां 65 नाली भूमि पहले ही स्वीकृत की जा चुकी है। आयुष ग्राम को स्टाफ की कमी के चलते पीपीपी मोड में चलाने पर विचार किया जाएगा। डा. सिंह ने बताया कि लोहाघाट, मडलक, दिगालीचौड़ एवं रीठाखाल में स्वीकृत वेलनेस सेंटरों में काम शुरू करने के साथ चौड़ाकोट, बिरगुल, बनबसा, डुंगराकोट, गूंठ गरसाड़ी, सिमलखेत, ओखलंज व कर्णकरायत में नए सेंटर प्रस्तावित किए जा रहे हैं। लोहाघाट के राजकीय चिकित्सालय में शीघ्र ही क्षार सूत्र चिकित्सा पद्धति से बवासीर व भगंदर आदि रोगों का उपचार किया जाएगा। रीठाखाल, रीठासाहिब, खायकोट, चमदेवल में नए आयुर्वेदिक चिकित्सालय के अलावा एबटमाउंट में पर्यटन की दृष्टि से भी आयुर्वेदिक चिकित्सालय प्रस्तावित किया गया है। जिला मुख्यालय समेत तामली, बर्दाखान, टनकपुर, रौसाल, रैघांव, क्वारसिंह, मूलाकोट एवं बनलेख में चिकित्सालयों के स्थाई भवन निर्माण के लिए भूमि की तलाश शुरू की जा रही है। बताया कि टनकपुर में 50 बेड का आयुर्वेदिक अस्पताल खोला जाएगा, जहां चिकित्सा की सारी सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. आलोक शुक्ला ने संयुक्त निदेशक को जिले में संचालित आयुष विभाग की गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने आयुर्वेदिक अधिकारी को जिले में ऐसे स्थानों में चिकित्सा शिविर लगाने के निर्देश दिए जहां चिकित्सा की सुविधाएं नहीं हैं। डा. सिंह के साथ आयुष सलाहकार डा. हेमंत खर्कवाल, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. आलोक शुक्ला, डा. गिरेंद्र चौहान, डा. अजय रस्तोगी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran