जागरण संवाददाता, नवांशहर : आर्ट आफ लिविग नवांशहर चैप्टर द्वारा वीरवार से द आर्ट आफ लिविग का हैप्पीनेस प्रोग्राम (आनंद उत्सव) शुरू हो गया है। यह कार्यक्रम डीएएन कालेज के हाल में आयोजित किया जा रहा है। इस चार दिवसीय कार्यशाला में लोगों को आसन, प्राणायाम, ध्यान, के माध्यम से शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक रूप से मजबूत बनाया जाता है, ताकि जीवन के अच्छे और बुरे दौर में भी संयमित और खुश रह सकें। आर्ट आफ लिविग के वरिष्ठ प्रशिक्षक विवेक बांसल एवं स्थानीय शिक्षक मनोज कुमार एवं बंगा से मुकेश रानी इस शिविर का संचालन कर रहे हैं। इस प्रोग्राम में मनोज जगपाल, हतिदर खन्ना, शुभम सरीन एवं राजन अरोड़ा ने सहायक के रूप में प्रतिभागियों की क्रियाएं सिखाने में मदद की। आनंद उत्सव के पहले दिन प्रणायाम एवं सुदर्शन क्रिया की तकनीक का अभ्यास किया एवं सांस कैसे ली जाए, इसके बारे में भी विस्तृत रूप से बताया गया। इस मौके पर विवेक बांसल ने बताया की प्रदूषित वातावरण, व्यक्तिगत समस्याएं और काम का दबाव हमारे शरीर और दिमाग पर भारी पड़ता है। आर्ट ऑफ लिविग का हैप्पीनेस प्रोग्राम एक समग्र और एकीकृत कार्यशाला है जो अद्वितीय उपकरण और तकनीक प्रदान करती है, जो हमारे दैनिक, आधुनिक जीवन में संचित तनाव से निपटने में मदद करती है।वीरवार को इस कार्यक्रम में सिखाए गए योग आसनों, सांस लेने की तकनीक और ध्यान के माध्यम से प्रतिभागियों ने हल्का, ऊर्जावान और उत्साही महसूस किया।

Edited By: Jagran