नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। गुरुवार के कारोबारी सत्र के दौरान बाजार में तेजी देखने को मिली। आईटी, बैंकिंग और फाइनेंस शेयरों में भारी लिवाली से विदेशी फंडों की आमद के बीच इक्विटी बेंचमार्क सेंसेक्स गुरुवार को 515 अंक चढ़कर 59,000 के स्तर पर पहुंच गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला सूचकांक 515.31 अंक या 0.88 प्रतिशत बढ़कर 59,332.60 पर बंद हुआ। इसी तरह एनएसई निफ्टी 124.25 अंक या 124.25 प्रतिशत बढ़कर 17,659 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स पैक से टॉप गेनर और टॉप लूजर कंपनियां

सेंसेक्स पैक से एक्सिस बैंक 2.75 प्रतिशत चढ़कर टॉप पर रहा। इसके बाद बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी, टेक महिंद्रा, विप्रो, एसबीआई, टीसीएस और इंडसइंड बैंक का स्थान रहा। वहीं, दूसरी ओर, आईटीसी, एनटीपीसी, एचयूएल, भारती एयरटेल, मारुति और नेस्ले इंडिया 1.56 फीसद की गिरावट के साथ टॉप लूजर रहे।

एशिया और यूरोपीय बाजारों का हाल?

एशिया में हांगकांग, शंघाई और सियोल में शेयर बाजार प्रॉफिट के साथ बंद हुए, जबकि टोक्यो का शेयर बाजार लाल रंग में बंद हुआ। वहीं, मध्य कारोबारी सत्र के दौरान यूरोपीय शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गई। इस पर व्यापारियों ने कहा कि घरेलू बाजारों में तेजी को वैश्विक इक्विटी, विशेष रूप से अमेरिकी गेज और बाद में एशियाई सूचकांकों में मजबूती के रुख से समर्थन मिला। इसके अलावा वाल स्ट्रीट बुधवार को तेजी से बढ़ा, जब अमेरिकी आंकड़ों से पता चला कि महंगाई जुलाई में अपेक्षा से अधिक कम हो गई। यह दर्शाता है कि फेड ब्याज दरों में बढ़ोतरी में कम आक्रामक हो सकता है।

विदेशी संस्थागत निवेशक रहे भारतीय पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार

विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) भारतीय पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार थे, क्योंकि उन्होंने एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार बुधवार को 1,061.88 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.92 प्रतिशत बढ़कर 98.30 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।

Edited By: Sarveshwar Pathak