पुणे। केंद्रीय नगर विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा है कि बीजेपी का बढ़ता जनाधार देख शिवसेना का नाराज होना स्वाभाविक है। अब बीजेपी बड़े भाई की भूमिका में है। नायडू ने यह भी कहा कि, शिवसेना के मुखपत्र सामना पर पाबंदी नहीं लगनी चाहिए। मैं एेसा नहीं होने दूंगा, उन्हें जो लिखना है वह लिखे।

वेंकैया नायडू ने कहा कि, सरकार में शामिल होने के बावजूद एक दूसरे पर आरोप लगाना गलत है। बीजेपी की बढ़ती ताकद को देख शिवसेना नाराज चल रही है। अब बीजेपी बड़े भाई की भूमिका में है। बीजेपी को बहुमत मिलने वाला है, इससे शिवसेना को लग रहा है कि अब उनके पास सत्ता नही होगी। सामना में पीएम के खिलाफ लिखा जा रहा है तो यह समझ लेना चाहिए कि, अखबार का स्तर गिर रहा है।

समुद्र के नीचे से भी गुजरेगी मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन

यह थी बीजेपी की मांग

बीजेपी ने चुनाव आयोग से 20 और 21 फरवरी को वोटिंग के दौरान सामना छापने पर पाबंदी लगाई जाने की मांग की थी। पार्टी का कहना था कि, 15 फरवरी के सामना में आचारसंहिता का उल्लघंन किया गया था। इस बारे में आयोग को पत्र भी दिया गया था। चुनाव आयोग ने इस बारे में 'सामना' को तीन दिनों में अपना पक्ष रखने के लिए कहा है।

मुंबई के कुर्ला इलाके में मदर मेरी की मूर्ति के साथ छेड़छाड़

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप