मुंबई, राज्य ब्यूरो। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। यह मुलाकात राज्यपाल कोटे से नामित होने वाली विधान परिषद की 12 सीटों को लेकर हुई, ये नामांकन पिछले आठ महीनों से टलते आ रही हैं। इस बैठक में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे व राजस्व मंत्री बाला साहब थोरात भी शामिल थे। विशिष्ट क्षेत्र से आने वाले व्यक्तियों की विधान परिषद में नामित करने के लिए महाविकास अघाड़ी सरकार की ओर से 12 लोगों की सूची पिछले वर्ष नवंबर में राज्यपाल को भेजी गई थी। यह नामांकन राज्यपाल के कोटे से किया जाना है, लेकिन अब तक राज्यपाल ने इस सूची में शामिल लोगों की नामांकन पर सहमति नहीं दी है। जिसे लेकर महाविकास अघाड़ी के नेताओं की ओर से राज्यपाल पर तीखी टिप्पणियां भी की जाती रही हैं। पिछले दिनों इन नियुक्तियों को लेकर दायर एक जनहित याचिका पर फैसला सुनाते हुए उच्च न्यायालय ने भी माना था कि लंबे समय तक विधान परिषद की सीटों को खाली नहीं रखा जा सकता। ये नामांकन एक निश्चित समय सीमा के अंदर हो जानी चाहिए। अदालत ने मुख्यमंत्री व राज्यपाल को आपस में बात करके इन नियुक्तियों का रास्ता निकालने का सुझाव भी दिया था।

पिछले सप्ताह भी मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से राज्यपाल से मिलने का समय मांगा गया था, लेकिन तब राज्यपाल की व्यस्तता के कारण उन्हें समय नहीं मिल सका था। बुधवार शाम यह मुलाकात हुई है। इसमें महाविकास अघाड़ी में तीनों दलों के प्रतिनिधि शामिल थे। शिवसेना की ओर से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राकांपा की ओर से उपमुख्यमंत्री अजीत पवार व कांग्रेस की ओर से राजस्व मंत्री बाला साहब थोरात राज्यपाल से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे। जिन 12 लोगों के नाम इन नियुक्तियों के लिए भेजे गए हैं, उनमें भी चार-चार नाम इन तीनों दलों की ओर से शामिल किए गए हैं। बैठक में राज्यपाल के साथ तीनों नेताओं की वार्ता का विवरण पता नहीं चल सका है, लेकिन माना जा रहा है कि यह मुलाकात विधान परिषद सीटों के नामांकन को लेकर ही थी।

Edited By: Sachin Kumar Mishra