राज्य ब्यूरो, मुंबई। Coronavirus . राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार का मानना है कि कोरोना महामारी का अर्थव्यवस्था पर दीर्घकालीन असर होगा व इससे उबरने में देश को साल-डेढ़ साल लग सकते हैं। शरद पवार शुक्रवार को फेसबुक लाइव के जरिए महाराष्ट्र के लोगों से बात कर रहे थे।

शरद पवार का मानना है कि देश पर आया कोरोना का संकट अत्यंत गंभीर है। इसके दुष्परिणाम मनुष्यों के साथ-साथ पशु-पक्षियों पर भी होंगे। इससे हर व्यक्ति का आर्थिक गणित बिगड़ेगा व इससे उबरने में साल-डेढ़ साल लग जाएंगे। पवार ने लोगों को सलाह दी है कि यह संकट बहुत बड़ा है। इसे नजरंदाज करना उचित नहीं है। घर में रहिए। मैं भी घर में रह रहा हूं। अपवाद स्वरूप एक-दो लोगों को छोड़कर मैं किसी से मिल भी नहीं रहा हूं। केंद्र व राज्य सरकार ने जो निर्देश दिए हैं, उनका पालन करिए। नहीं तो इसकी बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है। पवार ने कहा कि इस समय पुलिस, डॉक्टर व अन्य स्वास्थ्यकर्मी उदारतापूर्वक दिनरात काम कर रहे हैं। इन्हें वेतन में एक बढ़ोतरी देने का निर्णय सरकार को करना चाहिए।

पवार ने कोरोना संकट के दौरान आम लोगों की मदद के लिए केंद्र सरकार द्वारा दिए गए पैकेज एवं रिजर्व बैंक द्वारा उठाए गए कदमों का स्वागत किया है, लेकिन उन्होंने कृषि क्षेत्र के लिए इस पैकेज को अपर्याप्त बताया है। उनका मानना है कि किसानों के लिए कोई ठोस उपाय करने की जरूरत है। गरीबों को मुफ्त अनाज देने का निर्णय स्वागतयोग्य है, लेकिन इसका अर्थव्यवस्था को कोई लाभ नहीं होगा। इस दृष्टि से भी सोचने की जरूरत है।

सरकार को खेती से संबंधित सामानों की खरीद में राहत देनी चाहिए। किसान फसली कर्ज की किश्तें देने की स्थिति में नहीं हैं। उसे 4-5 वर्ष के लिए माफ करने की जरूरत है। साथ ही, यह भी ध्यान रखना चाहिए कि केंद्र सरकार द्वारा घोषित योजनाएं लोगों तक पहुंच सकें। पवार ने सरकार से लघु उद्योगों के लिए भी राहत के उपाय सोचने की अपील की है। 

महाराष्ट्र की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस