मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राठ ठाकरे ने अयोध्या मामले शनिवार को  आये अदालत के फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए कहा है कि पूरे संघर्ष के दौरान बलिदान देने वाले सभी  'कारसेवकों ' का बलिदान बेकार नहीं गया। राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द होना चाहिए। मैं चाहता हूं कि राम मंदिर के साथ-साथ राष्ट्र में राम राज्य भी स्थापित हो। 

बता दें की सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या की विवादित जमीन का हक रामजन्मभूमि न्यास को देने का आदेश दिया है। मुसलमानों को मस्जिद के लिए अयोध्या में ही पांच एकड़ भूमि दी जाएगी। कोर्ट ने बताया कि इस बात के सबूत हैं क अंग्रेजों के आने से पहले राम चबूतरा, सीता की रसोई पर हिंदूओं द्वारा पूजा अर्चना की जाती थी। अभिलेखों में दर्ज साक्ष्यों के आधार पर कहा जा सकता है कि हिंदुओं का विवादित जमीन के बाहर के हिस्से पर कब्जा था। मुस्लिम पक्ष के वकील जफरयाब जिलानी ने कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा सुनाये गये फैसले में कई विरोधाभास हैं, इसलिए हम सुनाये गये फैसले से संतुष्ट नहीं है।

 सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में रामलला को इस जमीन का मालिकाना हक घोषित करते हुए कहा कि इस मामले में ट्रस्ट का गठन करके मंदिर बनाने की प्रक्रिया की शुरुआत हो सकती है। कोर्ट ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ भूमि मुहैया करवाने का आदेश भी दिया। जमीन कहां दी जाएगी ये प्रदेश सरकार ही तय करेगी। ज्ञात हो कि ये पूरा मामला 2.77 एकड़ की विवादित जमीन का था। सुप्रीम कोर्ट ने दूसरे पक्ष की भावनाओं का सम्मान करते हुए इससे कहीं अधिक जमीन उपलब्ध करवाने का आदेश दिया है। 

महाराष्ट्र की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप