मुंबई, एजेंसी। महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे ने अपने चाचा बाला साहेब ठाकरे की 'कट्टर हिंदुत्‍व' की परंपरा को आगे बढ़ाने का संकेत दिया है। मुंबई के उपनगर गोरेगांव में आयोजित रैली में राज ठाकरे ने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश से आए मुस्लिम घुसपैठियों को बाहर निकालने में केंद्र सरकार की मदद करेंगे। इस समय देश में नागरिकता संशोधन कानून पर बहस चल रही है, लेकिन हमें किसी ऐसे व्यक्ति को आश्रय क्यों देना चाहिए जो अवैध रूप से बाहर से आया है। य‍ह रैली पूर्व शिवसेना प्रमुख स्‍वर्गीय बाला साहेब ठाकरे का जन्‍म दिवस पर आयोजित की गई।  उन्‍होंने अपने चचेरे भाई और महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे पर तंज कसते हुए कहा कि मैं सरकार के साथ अपनी पार्टी का रंग नहीं बदलता हूं। 

उन्‍होंने कहा कि मैं कुछ मुद्दों पर राज्य के गृह मंत्री या मुख्यमंत्री से मिलूंगा। भारत में मुस्लिम मौलवी दूसरे देशों में जाते हैं, किसी को नहीं पता कि वे क्या करते हैं, यहां तक कि पुलिस भी नहीं जा सकती। उन्‍होंने कहा कि हम पाकिस्तान और बांग्लादेश के अवैध घुसपैठियों को भारत से बाहर निकालने के लिए 9 फरवरी को एक विशाल रैली निकालेंगे।  

पार्टी के झंडे का रंग हुआ भगवा

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के मुखिया राज ठाकरे ने अपनी पार्टी का झंडा बदल कर हिंदुत्व का रंग गाढ़ा करने का संकेत दे दिया है। इसके साथ ही उन्होंने अपने पुत्र अमित ठाकरे को भी राजनीति में उतार दिया है। राज ठाकरे ने 14 साल पहले जब शिवसेना से अलग होकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का गठन किया तो अपने झंडे को बहुरंगी स्वरूप दिया था। उसमें नीला, हरा एवं भगवा रंग की पट्टियों पर चुनाव चिह्न रेल का इंजन शामिल किया था।

अब उनकी पार्टी के झंडे में भगवा रंग पर छत्रपति शिवाजी महाराज की मुहर का चित्र होगा। साथ ही, नीचे कत्थई रंग की पट्टी पर पार्टी का नाम महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना लिखा होगा। गुरुवार को पहली बार उनके मंच पर विनायक दामोदर सावरकर की प्रतिमा भी नजर आई।

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस