मुंबई, राज्य ब्यूरो। Covid Management: ऑक्सीजन प्रबंधन में मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) को सर्वोच्च न्यायालय की प्रशंसा मिलने के बाद शनिवार को कोविड प्रबंधन में महाराष्ट्र की पीठ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ठोकी है। प्रधानमंत्री मोदी ने यह तारीफ उद्धव ठाकरे से बातचीत के दौरान की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की और कोविड-19 की दूसरी लहर में राज्य द्वारा किए जा रहे प्रयासों की तारीफ की। इस अवसर पर उद्धव ठाकरे ने भी केंद्र से मिल रहे मार्गदर्शन व मदद के लिए प्रधानमंत्री का आभार जताया तथा उनसे राज्य के लिए मेडिकल ऑक्सीजन का कोटा बढ़ाने की मांग की। दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी के विभिन्न पहलुओं व टीकाकरण पर बात की।

उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री को यह भी बताया कि महाराष्ट्र कोरोना की तीसरी संभावित लहर से निपटने के लिए क्या-क्या योजना बना रहा हैं। उद्धव ठाकरे ने पीएम मोदी से महाराष्ट्र को टीकाकरण के लिए को-विन एप की तर्ज पर अपना एप बनाने की अनुमति देने का भी आग्रह किया, जोकि केंद्रीय को-विन एप से जुड़ा रहेगा। राज्य सरकार का मानना है कि यह एप टीकाकरण के इच्छुक राज्य के लोगों के लिए मददगार साबित होगा। उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा कि टीकाकरण के इच्छुक ज्यादा लोगों के एक साथ लाग इन करने पर को-विन एप क्रैश कर जाता है। जिससे लोगों को असुविधा होती है।

महाराष्ट्र लंबे समय से राज्य को सीरम इंस्टीट्यूट व भारत बायोटेक के अलावा किसी अन्य वैक्सीन निर्माता से भी वैक्सीन खरीदने की इच्छा जताता रहा है। प्रधानमंत्री मोदी से भी यह मांग करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि यदि राज्य को यह अनुमति दी जाती है, तो वह कम समय में अधिक लोगों के टीकाकरण में सफल हो सकता है। संयोग से पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे की यह वार्ता ठीक उसी दिन हुई है, जब शिवसेना मुखपत्र सामना में केंद्र सरकार की सेंट्रल विस्टा परियोजना की तीखी आलोचना की गई है।

Edited By: Sachin Kumar Mishra