Move to Jagran APP

दिशा सालियान मामले में दर्ज होगा नितेश राणे का बयान, बढ़ सकती हैं आदित्य ठाकरे की मुश्किलें

Disha Salian Case मुंबई पुलिस ने गुरुवार को दिशा सालियान हत्या मामले (Disha salian Murder Case) में भाजपा विधायक नितेश राणे को तलब किया। मुंबई पुलिस की विशेष जांच टीम अब भाजपा विधायक नितेश राणे का बयान दर्ज करेगी। अधिकारियों ने राणे से दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर के बारे में कोई भी जानकारी साझा करने को कहा है।

By Jagran News Edited By: Babli Kumari Thu, 11 Jul 2024 08:38 PM (IST)
मुंबई पुलिस ने भाजपा विधायक नितेश राणे को सम्मन

राज्य ब्यूरो, मुंबई। मुंबई पुलिस ने भाजपा विधायक नितेश राणे को समन भेजकर आठ जून, 2020 को हुई दिशा सालियान की कथित आत्महत्या के मामले में बयान कराने को कहा है। दिशा सालियान अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व प्रबंधक थी। सुशांत ने भी दिशा की आत्महत्या के सप्ताह भर के अंदर ही आत्महत्या कर ली थी।

नितेश राणे उसी समय से दिशा सालियान में मामले में उद्धव ठाकरे के पुत्र एवं घटना के समय महाराष्ट्र के मंत्री रहे आदित्य ठाकरे पर गंभीर आरोप लगाते रहे हैं।

महाराष्ट्र सरकार ने पिछले वर्ष दिसंबर में इस मामले की जांच एसआईटी से कराने की घोषणा की थी। अब मुंबई की मालाड पुलिस ने नितेश राणे को समन भेजकर उन्हें इस मामले में अपना बयान दर्ज कराने को कहा है। उन्हें इस मामले की जांच कर रहे मालवणी पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक चीमाजी आधव से मिलकर अपना बयान दर्ज कराना है।

'मैं कल जाकर अपना बयान दर्ज कराऊंगा'

28 वर्षीय दिशा सालियान की कथित आत्महत्या के बाद से ही भाजपा के वरिष्ठ नेता नारायण राणे एवं उनके विधायक पुत्र नितेश राणे इस मामले में उद्धव ठाकरे के पुत्र आदित्य ठाकरे पर गंभीर आरोप लगाते रहे हैं। आज विधानभवन परिसर में पत्रकारों द्वारा नितेश राणे से इस संदर्भ में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुझे अभी समन मिला नहीं है। मैं कल जाकर अपना बयान दर्ज कराऊंगा।

दिशा सालियान के आरोपित विधानभवन में घूम रहे

नितेश ने कहा कि दिशा सालियान की हत्या सामूहिक दुष्कर्म के बाद की गई है। मेरे पास इससे संबंधित सभी सबूत हैं। दूसरी ओर आज भी दिशा सालियान के आरोपित (इशारा आदित्य ठाकरे की ओर) विधानभवन में घूम रहे हैं। नितेश का कहना है कि यह घटना राज्य में महाविकास आघाड़ी सरकार के कार्यकाल के दौरान हुई। उस समय आदित्य ठाकरे के पिता मुख्यमंत्री थे।

आदित्य ठाकरे आठ और 13 जून, 2020 को हुई पार्टी में थे मौजूद 

पुलिस आयुक्त, डीसीपी, जांच अधिकारी सभी पर दबाव था। सारे सबूत नष्ट कर दिए गए। सीसीटीवी के फुटेज गायब कर दिए गए हैं। गेट पर रखे रजिस्टर के दो पन्ने फाड़ दिए गए हैं। आदित्य ठाकरे आठ और 13 जून, 2020 को हुई पार्टी में मौजूद थे। उनके मोबाइल की लोकेशन निकाली जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस को आदित्य ठाकरे से संबंधित कुछ जानकारियां मिली हैं। बाकी मैं पुलिस को उपलब्ध कराऊंगा।

यह भी पढ़ें- नखरेबाज ट्रेनी IAS का खुलने लगा पुराने विवादों का पिटारा, पूजा को शोशेबाजी पड़ी भारी! सरकार ने लिया बड़ा एक्शन