मुंबई, पीटीआइ। मुंबई और आसपास के इलाकों में वीरवार रात भर हुई भारी बारिश के कारण यहां और कसारा घाट में कुछ रेल पटरियां पानी में डूब गई और कुछ रेलवे ट्रैक बह गए हैं। कई स्‍थानों पर भूस्खलन के कारण बोल्डर दुर्घटनाग्रस्त हो गए, जिससे लंबी दूरी और स्थानीय ट्रेन सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हुईं हैं। इधर, महाराष्ट्र में भारी बारिश के बाद पटरियों पर कीचड़ जमा होने से नासिक जिले के इगतपुरी इलाके में रेल सेवा प्रभावित हुई है, बहाली का काम चल रहा है। इगतपुरी रेलवे स्टेशन पर कई यात्री फंसे हुए हैं। इस बीच, मुंबई में भारी बारिश के कारण 33 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया, 51 को शॉर्ट टर्मिनेट किया गया, 48 को रद किया गया और 14 ट्रेनों के रूटिंग में कमी की गई, जिससे भारी नुकसान हुआ, ट्रैक वॉशआउट, पटरियों पर कीचड़, जलभराव आदि है। यह जानकारी मध्य रेलवे ने दी।

 रेलवे अधिकारियों के अनुसार, कुछ लंबी दूरी की ट्रेनों को विभिन्न स्थानों पर रोक दिया गया है और ट्रेन में फंसे यात्रियों को उनके गंतव्‍य तक पहुंचाने के लिए विशेष बसों की व्यवस्था की जा रही है। मध्य रेलवे के मुख्य प्रवक्ता शिवाजी सुतार के अनुसार मध्य रेलवे की उपनगरीय ट्रेन सेवाएं बुधवार रात से दक्षिण मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) से पड़ोसी ठाणे जिले के टिटवाला और अंबरनाथ स्टेशनों तक ही संचालित की जा रही थीं।

टिटवाला से इगतपुरी (ठाणे से सटे नासिक जिले में) और पड़ोसी पुणे जिले में अंबरनाथ से लोनावाला के लिए ट्रेन संचालन को ट्रैक के बह जाने और बोल्डर दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद निलंबित कर दिया गया था, और रात भर भारी बारिश के कारण खंड में कई स्थानों पर बाढ़ और भूस्खलन हुआ था।

रेल अधिकारियों के मुताबिक, मध्य रेलवे ने बुधवार की रात करीब 10 बजकर 15 मिनट पर यहां से करीब 120 किलोमीटर दूर कसारा के पास उम्बरमाली स्टेशन के पास पटरियों पर भारी जलजमाव और कसारा घाट पर बोल्डर दुर्घटनाग्रस्त होने के कारण टिटवाला और इगतपुरी रेल खंड के बीच यातायात को निलंबित कर दिया गया था। बाद में, दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर मध्य रेलवे ने अंबरनाथ और लोनावाला खंड के बीच यातायात को निलंबित कर दिया क्योंकि मुंबई से लगभग 90 किलोमीटर दूर वंगानी स्टेशन के पास बाढ़ के कारण कुछ पत्थर खंडाला घाट खंड में गिर गए थे ।

सीआर ने कहा कि कुछ घंटों तक भारी बारिश से रेलवे ट्रैक और अन्य उपकरण क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इसमें कहा गया है कि कसारा में बुधवार रात 9 बजे से चार घंटे में करीब 138 मिमी बारिश दर्ज की गई, जबकि लोनावाला और कर्जत में क्रमश: 142 मिमी और 129.1 मिमी बारिश दर्ज की गई। सुतार ने कहा कि दोनों खंडों में ट्रेन की आवाजाही बहाल करने के प्रयास जारी हैं।

सुतार ने कहा, "विशेष बोल्डर ट्रेनें, विभिन्न मशीनें और मजदूर क्षतिग्रस्त स्थानों पर काम कर रहे हैं," उन्होंने कहा कि मध्य रेलवे के महाप्रबंधक अपने कैंप कार्यालय से त्वरित बहाली के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की लगातार निगरानी और मार्गदर्शन कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि मध्य रेलवे ने यात्रियों के लिए कल्याण, कसारा और इगतपुरी स्टेशनों पर हेल्प डेस्क स्थापित किए हैं। अधिकारियों ने कहा कि हार्बर लाइन, ट्रांस-हार्बर लाइन और बेलापुर-खरकोपर लाइन पर मध्य रेलवे की उपनगरीय सेवाएं निर्धारित समय के अनुसार चल रही हैं। वीरवार की सुबह दक्षिण मुंबई के चर्चगेट में ट्रैक चेंजिंग प्वाइंट फेल होने के कारण पश्चिम रेलवे मार्ग पर लोकल ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुईं। सुबह करीब साढ़े सात बजे समस्या को ठीक कर लिया गया और तब से सेवाएं सामान्य चल रही थीं।

 

Edited By: Babita Kashyap