मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने केंद्र से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PM's Crop Insurance Scheme) के लिए आवेदन की समय सीमा 23 जुलाई तक बढ़ाने का अनुरोध किया है। इस पत्र में कहा गया है, "46 लाख किसानों ने अब तक योजना के लिए आवेदन किया है, जबकि बहुत से किसान अभी भी योजना के लिए औपचारिकताएं पूरी करने में लगे हुए हैं।"

क्‍यों शुरू की गई ये योजना 

भारत एक कृषि प्रधान देश है और सारी फसलें मौसम पर ही निर्भर करती है। लेकिन ऐसा  देखा गया है अक्‍सर प्राकृतिक आपदाओं या मौसम की मार के चलते किसानों की फसलें खराब हो जाती हैं। ऐसे में फसलों का बीमा न होने के कारण किसान मुआवजे से वंचित रह  जाते हैं और तंग आकर आत्‍महत्‍या कर लेते हैं। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने फरवार 2016 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरूआत की थी।

कैसे उठाये इस योजना का लाभ

अगर किसी आपदा के कारण फसल खराब हो जाती है तो 72 घंटे के अंदर बीमा कंपनी को इसकी सूचना देनी होगी। बीमा कंपनी खेतों का मुआयना संबंधित व्‍यक्ति से करवाएगी। वह व्‍यक्ति मुआयने के बाद रिपोर्ट तैयार करेगा और बीमा कंपनी को सौंप देगा। रिपोर्ट के आधार पर किसाना को मुआवजा दिया जाएगा।

Edited By: Babita Kashyap