मुंबई, एजेंसियां। महाराष्ट्र में भारी बारिश का क्रम जारी है जिसे देखते हुए अगले तीन दिनों तक अधिकारियों को सतर्क रहने का आदेश दे दिया गया है। राज्‍य के सतारा जिले में भी बारिश का दौर जारी है। रायगढ़ और रत्नागिरी जिलों में वीरवार को अत्‍याधिक बारिश के चलते आयी बाढ़ से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो गया है। इन जिलों में बचाव अभियान जारी है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया है कि रत्नागिरी जिले में बचाव कार्यों के लिए वायुसेना का एक हेलीकॉप्टर भी उपलब्ध कराया गया है। मुख्यमंत्री लगातार स्थानीय अधिकारियों के संपर्क में हैं। मौसम विभाग ने कोंकण इलाके में रेड अलर्ट जारी किया है।

महाराष्ट्र के सतारा जिले में बारिश जारी, पाटन के दृश्य

 

भारी बारिश ने मचायी भयंकर तबाही

वीरवार को कोंकण के रत्नागिरी जिले के बाद दूसरे जिले सिंधुदुर्ग में भी भारी बारिश ने भयंकर तबाही मचाई है। हालात ये हैं कि बारिश की कारण कई गांवों का संपर्क टूट चुका है। सिंधुदुर्ग में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बीती रात हुई भारी बारिश के कारण सुबह से ही कई इलाके जलमग्न हो चुके हैं। कई रास्ते एहतियातन बंद कर दिए गए हैं। कुछ रास्तों पर खतरे का बोर्ड लगा दिया गया है जबकि कई मार्ग टूट चुके हैं और चट्टानें खिसक रही हैं।

पीएम मोदी ने सीएम उद्धव ठाकरे से की बात स्थिति का लिया जायजा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीरवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भारी बारिश और बाढ़ के कारण राज्य के विभिन्न हिस्सों में उत्पन्न स्थिति के लिए केंद्र से हर संभव मदद का आश्वासन दिया। प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की और राज्य की स्थिति का जायजा लिया। एक ट्वीट में, प्रधान मंत्री ने कहा, "महाराष्ट्र के सीएम श्री उद्धव ठाकरे से बात की और भारी बारिश और बाढ़ के मद्देनजर महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में स्थिति पर चर्चा की। स्थिति को कम करने के लिए केंद्र ने हर संभव सहायता का आश्वासन दिया। सभी की सुरक्षा और सलामती के लिए प्रार्थना।

महाराष्ट्र सरकार के जनसंपर्क विभाग के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे बचाव अभियान और किए जा रहे कदमों की जानकारी दी। पीएम मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य को बचाव और राहत कार्यों में मदद करने की पूरी कोशिश करेगी। इससे पहले, वीरवार को ठाकरे ने राज्य के रत्नागिरी और रायगढ़ जिलों में पिछले 24 घंटों में मूसलाधार बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के लिए एक आपात बैठक की।

ठाकरे ने आपदा प्रबंधन इकाइयों और संबंधित विभागों को सतर्क रहने और तत्काल बचाव अभियान शुरू करने का भी निर्देश दिया, मुख्यमंत्री कार्यालय को सूचित किया। हाइ टाइड और भारी बारिश के कारण गंभीर परिस्थितियों से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की दो टीमों को रत्नागिरी के खेड़ और चिपलून क्षेत्रों में भेजा गया। पुणे मुख्यालय से रत्नागिरी के खेड़ और रायगढ़ के महाड के लिए एक-एक बचाव अभियान के लिए दो और टीमें भेजी गई हैं।

राष्ट्रीय पूर्वानुमान एजेंसी भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने राज्य के कई क्षेत्रों के लिए रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है, जहां अगले तीन दिनों में भारी बारिश होने की संभावना है।

Edited By: Babita Kashyap

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट