मुंबई, प्रेट्र । महाराष्ट्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए महाराष्ट्र टूरिजम डेवलेपमेंट कारपोरेशन (एमटीडीसी) राज्य के 25 किलो को हेरिटेज होटल्स में बदलने जा रही है। इन किलों में खुले हेरिटेज होटल्स को चलाने के लिए बड़े-बड़े होटल्स, उद्योगपतियों और रेसॉर्ट को कॉन्ट्रैक्ट दिया जाएगा। राज्य में ज्यादा से ज्यादा निजी निवेश को बढ़ाने के लिए सरकार ये कदम उठा रही है।

पर्यटन सचिव विनीता सिंघल के अनुसार मंत्रिमंडल की बैठक में इसे अंतिम मंजूरी दे दी गई है। इन किलों का प्रयोग सिर्फ होटल ही नहीं बल्कि विवाह स्थल और मनोरंजन कार्यक्रम स्थलों के रूप में भी किया जाएगा। इस योजना के द्वारा हम हेरिटेज पर्यटन को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं।

 लीज पर दिये जाएंगे किले

इस कार्य को आगे बढ़ाने के लिए पर्यटन विभाग जल्द ही हेरिटेज होटलों को आमंत्रित करेगा और इसके बाद इन किलो को लीज पर दिया जाएगा। इन किलो के लिए 60 से 90 वर्ष तक का अनुबंध किया जा सकता है। सरकार का कहना है कि इससे इन किलो का संरक्षण आसानी से हो जाएगा हालांकि इनमें किसी भी तरह के निर्माण कार्य पर पूर्णत: प्रतिबंध रहेगा। 

सरकार के फैसले का विरोध

राज्य में कुल 350 किले हैं। जिनमें से 100 को हेरिटेज का दर्जा दिया गया है। राजस्थान और गोवा की तरह हेरिटेज टूरिजम को बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने यह फैसला किया है। हालांकि, सरकार के सरकार के इस फैसले का गढ़ प्रेमियों और इतिहासकारों ने विरोध किया है। एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले का कहना है कि महाराष्ट्र के इन किलो में छत्रपति शिवाजी महाराज का गौरवशाली इतिहास दर्ज है। इन्हें होटल में बदलने से इसकी गरिमा को ठेस पहुंचेगा। हम सरकार के इस फैसले का कडे शब्दों में विरोध करते हैं।

 साहित्य अकादमी पुरस्कार विजेता, उपन्यासकार और पत्रकार किरण नागरकर का मुंबई में निधन

 जल्द ही हिमाचल के मुख्यमंत्री से मिलेंगे अभिनेता जॉन अब्राहम, आखिर क्या है खास वजह

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप