मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) चार बार समन भेजने के बावजूद भी प्रवर्तन निदेशालय (ED) के सामने पेश नहीं हुए। इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय का कहना है कि हमारा अनिल देशमुख से किसी भी तरह से संपर्क नहीं हो पा रहा है, हमें नहीं पता कि वह कहां पर हैं। हम अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार कर रहे हैं। हमें ऐसी उम्‍मीद है कि आज के आदेश के बाद वह जांच में हमारा सहयोग करेंगे। गौरतलब है कि प्रवर्तन निदेशालय ने कथित मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख और उनके बेटे हृषिकेश देशमुख को तलब किया था।

गौरतलब है कि प्रर्वतन निदेशालय ने सोमवार को भी पूछताछ के लिए अनिल देशमुख और उनके पुत्र हृषिकेश देशमुख को तलब किया था। लेकिन दोनों में से कोई भी ईडी के सामने हाजिर नहीं हुआ। उनकी जगह उनके वकील इंद्रपाल सिंह ED ऑफिस पहुंचे और देशमुख के पेश होने पर असमर्थता जताई। ऋषिकेश देशमुख को भी सुबह 11 बजे पूछताछ के लिए तलब किया गया था लेकिन वह भी ईडी ऑफिस नहीं पहुंचे। बता दें कि इससे पहले भी देशमुख कोरोना महामारी और बढ़ती उम्र का हवाला देते हुए पेशी से बचते रहे हैं।

अपने वकील के द्वारा भिजवाये गए एक पत्र में अनिल देशमुख ने बताया कि उनकी याचिका पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है। इस पत्र में अनिल देशमुख ने लिखा है कि 30 जुलाई को जैसे ही सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने 3 अगस्त की तारीख दी, ईडी ने सोमवार के लिए समन जारी कर दिया। ज्ञात हो कि इससे पूर्व भी उनकी पत्नी और पुत्र को पूछताछ के लिए समन जारी किया जा चुका है, लेकिन वे सुनवाई के लिए एक बार भी ईडी के सामने हाजिर नहीं हुए।

Edited By: Babita Kashyap