मुंबई, राज्य ब्यूरो। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई की एक अदालत ने बुल्ली बाई एप मामले में गिरफ्तार श्वेता सिंह और मयंक रावत को शुक्रवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। अदालत में श्वेता सिंह ने आरोप लगाया कि पुलिस हिरासत में पूछताछ के दौरान उसे थप्पड़ मारे गए। बुल्ली बाई एप से संबंध रखने के कारण इन दोनों आरोपितों को मुंबई पुलिस ने इस माह के शुरू में उत्तराखंड से गिरफ्तार किया था। शुक्रवार को न्यायिक हिरासत मिलने के तुरंत बाद श्वेता सिंह व मयंक रावत ने अदालत में जमानत की अर्जी भी लगा दी। इस मामले में एक और आरोपित विशाल झा को भी गिरफ्तार किया जा चुका है। फिलहाल, विशाल झा और मयंक रावत दोनों कोरोना पाजिटिव हो गए हैं। अदालत ने तीनों आरोपितों की जमानत पर सुनवाई 17 जनवरी को रखी है। अभियोजन पक्ष को उसी दिन जवाब दाखिल करने को कहा गया है। बुल्ली बाई एप में निशाना बनाए जाने के बाद कई मुस्लिम महिलाओं ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद मुंबई पुलिस ने तीनों आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में दिल्ली पुलिस भी छह जनवरी को एक आपराधिक मामला दर्ज कर चुकी है।

गौरतलब है कि इससे पहले मुंबई की बांद्रा मेट्रोपोलिटन अदालत ने बुल्ली बाई एप से संबंधित एक मामले में उत्तराखंड से गिरफ्तार श्वेता सिंह और मयंक रावत की पुलिस हिरासत 14 जनवरी तक बढ़ा दी थी। इस एप में मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें आनलाइन नीलामी के लिए अपलोड किया गया था। इस मामले में कोर्ट ने एक अन्य आरोपित विशाल कुमार झा को 24 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। झा को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया था। कोरोना वायरस के लिए हुई जांच में उसे पाजिटिव पाया गया है। मुंबई पुलिस के साइबर सेल ने कोर्ट को बताया कि नौ जनवरी को झा कोरोना पाजिटिव पाया गया है। इसके बाद उसे बीएमसी के कालिना क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है। झा को न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद उसकी वकील आरती देशमुख और शिवम देशमुख ने जमानत के लिए अर्जी दाखिल कराई।

Edited By: Sachin Kumar Mishra