मुंबई, राज्य ब्यूरो। संदिग्ध आतंकी जान मोहम्मद शेख की दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तारी पर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार घिरती नजर आ रही है। मुंबई के भाजपा विधायक आशीष शेलार ने इसे महाराष्ट्र एटीएस की नाकामी बताया है। उन्होंने कहा है कि नवरात्र, रामलीला जैसे हिंदुओं के त्योहारों को निशाना बनाने की तैयारी कर रहे आतंकी को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। महाराष्ट्र की एटीएस सो रही थी क्या? शेलार ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि पुलिस पर राजनीतिक दबाव के कारण ऐसी चीजों से पुलिस का ध्यान हट जाता है। एक असंज्ञेय मामले में केंद्रीय मंत्री की गिरफ्तारी व विधायक के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी करने वाली पुलिस आतंकियों के मामले में सो रही थी क्या? शेलार ने इस मामले में इंटेलीजेंस की नाकामी का आरोप लगाते हुए राज्य के गृहमंत्री से स्पष्टीकरण देने की मांग की है।

देवेंद्र फड़णवीस बोले, मुंबई में आतंकी पकड़ा जाना खतरे की घंटी

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भी इस मामले को बहुत गंभीर बताते हुए कहा है कि देश के अलग-अलग हिस्सों, खासकर मुंबई में आतंकी का पकड़ा जाना खतरे की घंटी है। इस मसले पर गंभीरता से ध्यान दिया जाना चाहिए। ऐसी घटनाओं का दोहराव रोकने के लिए ऐसे लोगों को खत्म किया जाना चाहिए।

महाराष्ट्र एटीएस ने किया बड़ा खुलासा

दूसरी ओर, महाराष्ट्र एटीएस प्रमुख विनीत अग्रवाल ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि आतंकी जान मोहम्मद शेख पिछले 20 वर्षों से माफिया सरगना दाऊद इब्राहिम से जुड़ा हुआ था। उस पर महाराष्ट्र एटीएस की भी नजर थी। उसके खिलाफ मुंबई के पायधुनी पुलिस थाने में 20 साल पहले गोलीबारी व तोड़फोड़ के आरोप में एफआइआर दर्ज की गई थी। उसके खिलाफ बिजली चोरी का भी एक मामला दर्ज हुआ था। उसके खिलाफ कुछ और शिकायतों पर एनसी दर्ज हुई थी, लेकिन कोई आतंकी मामला अब तक सामने नहीं आया था। अग्रवाल कहते हैं कि महाराष्ट्र एटीएस करीब 1000 लोगों की लगातार निगरानी करती है। उनमें से एक जान मोहम्मद भी है। अग्रवाल ने कहा कि अभी तक मुंबई में कोई रेकी नहीं हुई है। न ही यहां से कोई हथियार या विस्फोटक बरामद हुआ है।

Edited By: Sachin Kumar Mishra