Move to Jagran APP

इंदौर के परमानंद आश्रम से भागा बच्चा, बदनामी के डर से पुलिस को सात घंटे बाद दी सूचना...पुलिस को भी गुमराह करने की कोशिश

Indore News इंदौर के युगपुरुष आश्रम से परमानंद आश्रम से एक16 साल का किशोर वहां से भाग गया। बदमानी के डर से आश्रम के कर्मचारी पहले उसे आस-पास ढूंढते रहे जब नहीं मिला तब जाकर पुलिस के पास पहुंचे। इतना ही नहीं पुलिस को बच्चे के गायब होने को लेकर गलत तथ्य बताए। मिली जानकारी के अनुसार बच्चा मंदबुद्धि है और नाम-पता बताने में भी असमर्थ है।

By Jagran News Edited By: Babli Kumari Wed, 10 Jul 2024 04:49 PM (IST)
इंदौर के अखंड परमानंद आश्रम से भागा एक बच्चा (फोटो- नई दुनिया)

डिजिटल डेस्क, इंदौर। Indore News: इंदौर के अखंड परमानंद आश्रम से 16 वर्षीय बच्चा लापता हो गया। बच्चे के लापता होने के पीछे आश्रम प्रभारी और प्राचार्य की लापरवाही सामने आई है। बच्चे के भाग जाने के सात घंटे बाद पुलिस को खबर दी गई थी। आश्रम के प्राचार्य ने एफआईआर में भी गलत तथ्य लिखवाकर पुलिस को गुमराह किया है।

पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज किया है। बच्चा मंदबुद्धि है। नाम-पता बताने में भी असमर्थ है। एसीपी आशीष पटेल के मुताबिक, श्री युग पुरुष धाम से छह जुलाई को 131 बच्चे परमानंद आश्रम में शिफ्ट किए गए थे। लेकिन प्राचार्य डा. अनिता शर्मा ने एफआईआर में लिखवाया कि बच्चे सात जुलाई को आए हैं।

बदनामी के डर से पुलिस को नहीं दी खबर 

शाम चार बजे बच्चा आश्रम से चला गया था। कर्चमारियों ने बदनामी के डर से पुलिस को खबर नहीं दी और खुद ही तलाशते रहे। रात 11 बजे तेजाजी नगर थाने गए और एफआईआर दर्ज करवाई। पुलिस ने घटना पर शक जाहिर करते हुए प्रबंधन से कहा कि वह बच्चों को पंचकुइया से खंडवा रोड लाने के सबूत दे। बदले में उन्होंने एक वीडियो दिया जिसमें बच्चे बस में बैठे हुए नजर आ रहे हैं।

सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी पुलिस

पुलिस सोमवार रात से ही सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुट गई। ड्रेगन टार्च से तलाशी ली गई। मंगलवार को आश्रम पहुंचे अफसरों ने सुरक्षा व्यवस्था देख नाराजगी जताई। बच्चे बाथरूम खुद ही जा रहे थे। परिसर में सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था भी सही नहीं है। परिसर में बने अस्पताल के पास से दीवार कूदकर जाने की शंका जताई गई। दोपहर को पुलिस ने न्यू दिगंबर पब्लिक स्कूल (एनडीपीएस) के फुटेज निकाले। ड्रोन कैमरा लगाकर खेतों में तलाशी करवाई।

बार-बार भाग रहा था बच्चा- रिक्शा चालक बोला 

पुलिस ने आश्रम के कर्मचारी और बच्चों से भी चर्चा की है। वे कुछ बताने की स्थिति में नहीं हैं। रिक्शा चालक दिलीप मिश्रा (आकाश नगर) ने बताया कि बच्चा शाम चार बजे के आसपास बाहर था। वह बार-बार भाग रहा था। उसे मुश्किल से अंदर भेजा था।

यह भी पढ़ें- एमपी में दो अलग-अलग सड़क हादसों में 8 लोगों की मौत, कहीं ट्रक और बस की भिड़ंत तो कहीं पेड़ से टकराया वाहन