भोपाल, जेएनएन । मध्यप्रदेश के भोपाल के अशोका गार्डन में दस साल के बच्चे ने फांसी लगा ली। वह जवाहर स्कूल में कक्षा पांचवीं का छात्र थ। उसकी बड़ी बहन भी है। मां घटना के समय बाहर गई हुई थी। पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। परिजन भी कुछ बताने को तैयार नहीं है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि दुपट्टे से फंदा बनाकर फांसी लगाई गई है। परिवार का हादसे के बाद से रो- रोकर बुरा हाल है। कोई यह नहीं बता पा रहा है। उसने किन कारणों से ऐसा कदम उठाया होगा। सबसे से ज्यादा बच्चे की मां की हालत खराब है।

जानकारी के मुताबिक एकतापरी कालोनी अशोकागार्डन में रहने वाली अक्षत सिंह फोटोग्राफर है। सोमवार सुबह ही वह काम पर चले गए थे। पत्नी स्नेहलता बाहर गई थी। घर में दस साल का बेटा रूद्राक्ष अकेला था। मां काफी देर तक घर नहीं पहुंची तो उसने अपने पिता को घर के मोबाइल से फोन किया और कहा कि मां कब तक घर आ रही थी। पिता ने उसे मां के मोबाइल पर फोन लगाने के लिए कहा। जब मां के मोबाइल पर फोन लगाया तो बाहर से कुछ खाने के लाने के लिए कहा था। रात में मां जब आठ बजे घर पहुंची तो बेटा फंदे पर लटका था, उसे देखकर मां की चीख निकल गई, यह सुनकर बहन भी कमरे में पहुंची।

मालूम हो कि बच्चे को पिता को फोन पर जानकारी देने के बाद परिवार बच्चे को लेकर पास के अस्पताल लेकर पहुंचा। जहां पर बच्चे को मृत घोषित कर दिया गया। परिजनों को सुबह अस्पताल बच्चे के शव के सुपुर्द किया गया। दुपट्टे का फंदा बनाया गया है, वह जवाहर स्कूल में कक्षा पांचवीं का छात्र थ। उसकी बड़ी बहन भी है पुलिस ने मामले में जांच शुरू कर दी है।

Edited By: Priti Jha