भोपाल, जेएनएन। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को वीसी के माध्यम से भिंड और सीधी जिले की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि सभी जिला कलेक्टर भ्रष्टाचार पर जीरो टालरेंस की नीति का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें, ताकि गरीब का पैसा कोई नहीं खा सके। आंगनवाड़ी गोद लेने के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए। जनभागीदारी को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से मैं स्वयं आंगनोवाड़ी के बच्चों के लिए जनसामान्य से खिलौने लेने के लिए भोपाल में हाथ ठेला लेकर निकलूंगा। शिवराज ने कहा कि एक और योजना हमने बनाई है उस का नाम है' मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना'। अगर आप कोई छोटी इंडस्ट्री लगाना चाहते हैं तो हम आप को एक लाख रुपये से लेकर 50 लाख रुपये तक का लोन दिलाएंगे, और बैंक को लोन वापस करने की गारंटी आपके मम्मी पापा, नहीं मामा लेंगे।

शिवराज ने कहा कि मेरे बेटा-बेटियों मैं आत्मीयता से कह रहा हूं कि "तुम कर सकते हो"। हमने वेंचर कैपिटल फंड बनाया है। मैं आज आपको खुला निमंत्रण दे रहा हूं कि जिनके पास इनोवेटिव आइडियाज हो वह आगे बढ़ो।

हम में से हर एक में क्षमता है, प्रतिभा है, योग्यता है, कोई भी कम नहीं है। स्वामी विवेकानंद कहते थे कि मनुष्य केवल साढ़े तीन हाथ का हाड मांस का पुतला नहीं है। वह ईश्वर का अंश है, अमृत का पुत्र है, अनंत शक्तियों का भंडार है। दुनिया में कोई काम ऐसा नहीं है जो हम न कर सकें। टीसीएस, इन्फोसिस इनको हम ही मध्य प्रदेश लेकर आए हैं। शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल मार्गदर्शन में देश का चहुंमुखी विकास हो रहा है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से भारत के सशक्तिकरण का नव मार्ग सृजित होगा और युवाओं को निश्चय ही नई व श्रेष्ठ राह मिलेगी। आईटी पार्क मध्य प्रदेश के सभी महानगरों में हमने बनाए हैं। इससे पहले शिवराज ने भोपाल के स्मार्ट पार्क में वंदेमातरम उत्सव समिति के साथी पयोज जोशी, डा. अखिलेश अर्गल, डा. कृष्णा अग्रवाल, हेमंत कपूर, सुनील पांडे, राजेन्द्र आच्याथ, शशांक दुबे, अशोक देशमुख के साथ पीपल और नीम के पौधे लगाए। 

Koo App
मैं एक अपील आप सबसे कर रहा हूं। आपके शहर में अगर कोई बच्चा ऐसा है जो कहीं भीख मांगता है तो वह हम सबके लिए शर्म की बात है। यह कलेक्टर की जवाबदारी है कि तत्काल उसके आश्रय की व्यवस्था करें।उसकी पढ़ाई कपड़े आदि के खर्चे की व्यवस्था हम करेंगे।किसी बच्चे को हम सड़क पर नहीं रहने देंगे। - Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 19 May 2022

Edited By: Sachin Kumar Mishra