Move to Jagran APP

बैतूल में महिला की हत्या की सुलझी गुत्थी, नाबालिग बेटा और पति ने दिया था वारदात को अंजाम; आरोपी गिरफ्तार

बैतूल जिले के हनुमान डोल मंदिर के पास तीन माह पहले जंगल में एक महिला की सिर कटी लाश रेत में दबी मिली थी। पुलिस ने इस मामले को सुलझा लिया है। जानकारी के अनुसार महिला की निर्मम हत्या किसी और ने नहीं बल्कि उसके पति ने ही की थी।

By Jagran NewsEdited By: Devshanker ChovdharyPublished: Thu, 23 Mar 2023 05:13 PM (IST)Updated: Thu, 23 Mar 2023 05:13 PM (IST)
बैतूल में महिला की हत्या की सुलझी गुत्थी, नाबालिग बेटा और पति ने दिया था वारदात को अंजाम।

राज्य ब्यूरो, बैतूल। बैतूल जिले के हनुमान डोल मंदिर के पास तीन माह पहले जंगल में एक महिला की सिर कटी लाश रेत में दबी मिली थी। पुलिस ने इस मामले को सुलझा लिया है। जानकारी के अनुसार, महिला की निर्मम हत्या किसी और ने नहीं, बल्कि उसके पति ने ही की थी। साक्ष्‍यों को छुपाने में उसके नाबालिग बेटे ने भी सहयोग किया था।

पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने बताया कि मृतका राधा राजपूत को उसके पति शैलेंद्र राजपूत ने मारा और 14 साल के बेटे ने भी इसमें सहयोग किया। हत्या के बाद आरोपित का सहयोग करने वाले दोस्त समेत तीनों के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 29 दिसंबर 2022 को रानीपुर थाना क्षेत्र के हनुमान डोल मंदिर के पुल के नीचे महिला की सिर कटी लाश मिली थी। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ धारा 302, 201 का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना शुरू की थी। जिले के सीमावर्ती जिले नर्मदापुरम, छिंदवाडा, हरदा, खंडवा, खरगौन के अलावा भोपाल, इंदौर के साथ साथ महाराष्ट्र के सीमावर्ती जिले अमरावती, नागपुर, अकोला व अन्य जिलों से गुम महिलाओं की जानकारी प्राप्त की गई। जिसमें गुम 500 से भी ज्यादा महिलाओं की जानकारी प्राप्त कर मृत महिला की पहचान करने का प्रयास किया गया। उक्त कार्रवाई में विभिन्न व्यक्तियों से पूछताछ की गई लेकिन कोई सफलता नहीं मिली थी।

ऐसे मिला सुराग

बता दें कि 13 मार्च 2023 को थाना गंज में अपनी बहन राधा राजपूत के ससुराल में न होने पर भाई दिलीप सिंह ने गंज थाना में सूचना दी। पुलिस ने गुम इंसान की जांच शुरू कर गुम महिला के पति शैलेंद्र राजपूत व परिजनों से पूछताछ की। इसी दौरान शैलेंद्र अपने घर से फरार हो गया।

इससे पुलिस का शैलेंद्र पर संदेह हुआ और उसकी सरगर्मी से तलाश की गई। शैलेंद्र का पुराना आपराधिक रिकॉर्ड देखने पर पता चला कि शैलेंद्र की पहली पत्नी की मृत्यु भी संदिग्ध परिस्थितियों में होने से शैलेद्र के खिलाफ थाना कोतवाली में धारा 498ए, 304बी, दहेज प्रतिशेध अधिनियम का मामला पंजीबद्ध किया गया था।

वर्ष 2010 में शैलेंद्र तथा अन्य के विरुद्ध मामला भी दर्ज किया गया था। साइबर सेल की मदद से शैलेंद्र की मौजूदगी पुणे महाराष्ट्र में पाई गई। पुलिस की टीम ने श्रीनिवास कम्पनी, नवलखा उमरी के पास उस तलाश कर पकड़ा।

ऐसे दिया वारदात को अंजाम

पूछताछ में उसने अपराध करना स्वीकार करते हुए बताया कि 7 दिसंबर 2022 को उसके गंज स्थित घर पर उसका पत्नी राधा से मकान बेचने के बाद मिले पैसे को लेकर विवाद हो गया था। उसने राधा की पिटाई कर दी, जिससे वह जमीन पर गिर गई और सिर फट जाने से उसकी मृत्यु हो गई।

मृतका की लाश दिन भर अपने घर पर ही रखा और रात को अपनी कार से नाबालिग बेटे के साथ मृतका के शव को हनुमान डोल मंदिर की पुलिया के पास ले गया। मृतका का सिर बेटे की मदद से आरी से काट कर अलग कर दिया और शव को रेत में दबा दिया।

इसके बाद, काटे गए सिर को ग्राम निशाना शाहपुर के पास गड्ढे में पेट्रोल डालकर जला दिया था। आरोपित शैलेद्र ने पुलिस को बताया कि रंगपंचमी के दिन फरार होने के बाद से गोविन्द वरकडे के कत्लढाना स्थित घर पर छुप कर रह रहा था। गोविन्द वरकडे ने ही उसे पुणे में रहने के लिये व्यवस्था कराई गई थी। पुलिस ने आरोपित पति, नाबालिग बेटे और सहयोग करने वाले दोस्त के खिलाफ मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.