ग्वालियर. जेएनएन । मध्यप्रदेश इंडस्टि्रयल डवलपमेंट कारपोरेशन (एमपीआईडीसी) द्वारा प्रस्तुत किए गए आंकड़ों के मुताबिक विगत 5 सालों में बड़ी संख्या में नई औद्योगिक इकाइयां लगी हैं, जिनमें करोड़ों रुपये का पूंजी निवेश हुआ है और हजारों नए रोजगार पैदा हुए हैं। कोरोनाकाल ने जहां हर किसी की रफ्तार को रोक दिया था, वहीं ग्वालियर-चंबल अंचल का औद्योगिक विकास लगातार गतिमान था।

एमपीआईडीसी के अंतर्गत आने वाले ग्वालियर-चंबल अंचल के औद्योगिक क्षेत्रों में बीते 5 साल में 109 से अधिक नई इकाइयां स्थापित हुई हैं। खास बात यह है कि इन इकाइयों में से 19 इकाइयां ऐसी हैं, जो कोरोनाकाल में स्थापित हुई हैं। वह तब, जबकि कोरोना के कारण तमाम कारोबार, उद्योग व व्यापार प्रभावित हो रहे थे।

मालूम हो कि भिंड जिला स्थित मालनपुर में सबसे अधिक 39 लघु इकाइयां स्थापित हुई हैं। ग्वालियर जिला स्थित स्टोन पार्क में 15, रेडीमेड गार्मेंट पार्क में 12 सूक्ष्म एवं लघु औद्योगिक इकाइयां स्थापित हुई हैं। गार्मेंट पार्क एवं स्टोन पार्क में केवल पत्थर एवं कपड़े से जुड़ी इकाइयां ही स्थापित हुई हैं। वहीं मालनपुर व बानमोर में ज्यादातर फूड प्रोसेसिंग यूनिट्स स्थापित की गई हैं। वहीं मुरैना जिला स्थित बानमोर में 31 लघु इकाइयां। जडेरुआ में 10, सीतापुर में 1 वृहद इकाई स्थापित हुई है।

एमपीआईडीसी ग्वालियर के मैनेजर का कहना कई ऐसी इकाइयों का लगना भी अभी लंबित है, जिन्होंने औद्योगिक क्षेत्रों में जमीन ले ली है, मगर अभी कंस्ट्रक्शन एवं प्रोडक्शन शुरू नहीं किया है। ग्वालियर में एयर कनेक्टिविटी को बढ़ावा मिलने से अब औद्योगिक विकास की संभावनाएं और अधिक बढ़ गई हैं। उद्यमियों के साथ ही विभागीय अधिकारियों को भी केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से इस संबंध में काफी उम्मीदें हैं।

378 करोड़ का निवेश, 2378 को प्रत्यक्ष रोजगार

औद्योगिक क्षेत्र--------संख्या---------निवेश---------रोजगार

मालनपुर-------------39---------137.14 करोड़-------1136

बानमोर--------------31---------48.37 करोड़--------432

जडेरुआ-------------10---------17.11 करोड़---------119

सीतापुर--------------1----------74.30 करोड़--------192

स्टोन पार्क-----------15---------92.34 करोड़--------171

रेडीमेड गारमेंट पार्क----13---------8.76 करोड़---------328

कुल----------------109-------378.02 करोड़--------2378

 

Edited By: Priti Jha