इंदौर, जागरण आनलाइन डेस्‍क। इंदौर से दिल्ली (Indore to delhi) जाने वाले यात्रियों को रेलवे ने एक नया तोहफा दिया है। ऐसी संभावना है कि अगले महीने से इंदौर से दिल्ली के बीच नई ट्रेन शुरू होगी। यह ट्रेन सप्ताह में तीन दिन चलेगी। इसकी लंबे समय से मांग की जा रही थी। इसका रूट अभी तय नहीं हुआ है। इसकी घोषणा जल्‍द ही की जाएगी।

केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से सोमवार को सांसद शंकर लालवानी ने मुलाकात के बाद इस ट्रेन की घोषणा की है। उन्होंने बताया कि इस साल की गर्मियों में रेलवे ने इंदौर और दिल्ली के बीच एक ग्रीष्मकालीन विशेष साप्ताहिक ट्रेन चलाई थी, जिसे काफी अच्छा रिस्पांस मिला था।

यह ट्रेन लगातार भर कर चल रही थी जिसके चलते इसे नियमित करने की मांग की जा रही थी। ऐसा लग रहा था कि यह ट्रेन नियमित हो जाएगी लेकिन इसे रोक दिया गया। इसी बीच रेल मंत्री ने हमें यह नई ट्रेन दी है। यह ट्रेन अगले महीने से चलेगी। जिससे त्योहारी सीजन में यात्रियों को इससे काफी सहूलियत होगी।

चल रही ट्रेनों में सालभर रहती है वेटिंग

इससे पहले रेलवे बोर्ड ने भी राजधानी दिल्ली के लिए क्लोन ट्रेन (Clone Train) की इजाजत दी थी। जिसका रूट भी फिक्स था लेकिन यह ट्रेन स्टार्ट नहीं हो पाई। फिलहाल इंदौर से चलने वाली ट्रेनों में साल भर का ही इंतजार रहता है। नई ट्रेन चलने से यात्रियों को सुविधा मिलेगी।

जानकारी के अनुसार इंदौर से दिल्ली के बीच मालवा एक्सप्रेस (Malwa Express), इंटरसिटी (Intercity), इंदौर-चंडीगढ़ (Indore to Chandigarh), इंदौर-दिल्ली साप्ताहिक (Indore Delhi Weekly), इंदौर-जम्मू साप्ताहिक (Indore Jammu Weekly) और इंदौर-अमृतसर एक्सप्रेस (Indore Amritsar Express) चलती है।

नई ट्रेन के चलने से यात्रियों को और सुविधा मिलेगी। इन ट्रेनों में बारह माह से वेटिंग जारी है, जिससे लगातार अतिरिक्त ट्रेन चलाने की मांग की गई है।

इंदौर से जयपुर के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस को मिली मंजूरी

इंदौर। देश की सबसे अत्याधुनिक ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस (Vande Bharat Express) इंदौर से जयपुर (Indore to Jaipur) के बीच चलेगी। ट्रेन के लिए अनुमति मिल गई है, लेकिन रैक उपलब्ध नहीं होने के कारण इसमें दो से तीन महीने का समय लगेगा।

सांसद ने रेल मंत्री को इंदौर से जयपुर, जबलपुर, सूरत और नागपुर के लिए ट्रेनें चलाने का सुझाव दिया था। इसमें से जयपुर को हरी झंडी मिल गई है। सांसद शंकर लालवानी ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि इंदौर से जयपुर के लिए ट्रेन चलाने पर सहमति बनी है। रेलवे 100 रैक तैयार कर रहा है। इसमें हमें दो मिल जाएंगे।

इसके बाद यह ट्रेन इंदौर से शुरू होगी। दोनों शहरों के बीच का सफर सात से आठ घंटे में पूरा होगा। यह ट्रेन 160-180 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। हालांकि, देश में उपलब्ध ट्रैक पर अधिकतम संभव गति 130 किमी प्रति घंटे है।

हाल ही में रेलवे बोर्ड ने पश्चिम रेलवे को गर्मी में शुरू हुई महू-दिल्ली समर स्पेशल ट्रेन को 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से रतलाम से दिल्ली सेक्शन के बीच चलाने का निर्देश दिया था। इंदौर-फतेहाबाद-रतलाम के बीच ट्रैक क्षमता नहीं होने के कारण इसे 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया गया।

Edited By: Babita Kashyap