Move to Jagran APP

Income Tax Raid: इंदौर में रियल एस्टेट कारोबारियों पर आयकर विभाग के छापे, बीसीएम समूह के 40 ठिकाने निशाने पर

बीसीएम ग्रुप दशकों से शहर में रियल एस्टेट के बड़े प्रोजेक्ट तैयार करने के लिए पहचाना जाता है। इंदौर के साथ आसपास के शहरों में भी समूह से जुड़े भागीदार जांच के दायरे में है। भागीदारों को मिलाकर कुल 45 ठिकानों पर जांच के लिए आयकर टीम पहुंची है।

By AgencyEdited By: Babli KumariPublished: Thu, 02 Feb 2023 11:18 AM (IST)Updated: Thu, 02 Feb 2023 11:18 AM (IST)
Income Tax Raid: इंदौर में रियल एस्टेट कारोबारियों पर आयकर विभाग के छापे, बीसीएम समूह के 40 ठिकाने निशाने पर
इंदौर में रियल एस्टेट कारोबारियों पर आयकर विभाग के छापे (प्रतीकात्मक फोटो)

इंदौर, आनलाइन डेस्क। मध्यप्रदेश की व्यवसायिक राजधानी इंदौर में गुरुवार को आयकर विभाग ने रियल एस्टेट कारोबारियों के यहां छापे की कार्यवाही की है। शहर के सबसे बड़े रियल एस्टेट कारोबारियों में शुमार होना वाला बादलचंद मेहता (बीसीएम) समूह आयकर विभाग के निशाने पर है। समूह के 40 से ज्यादा ठिकानों पर आयकर विभाग की टीमों में छापा मारकर जांच शुरू की है। बीसीएम ग्रुप दशकों से शहर में रियल एस्टेट के बड़े प्रोजेक्ट तैयार करने के लिए पहचाना जाता है।

loksabha election banner

इंदौर के साथ आसपास के शहरों में भी समूह से जुड़े भागीदारों और रेशो डील करने वाले भी आयकर की जांच के दायरे में है। भागीदारों को मिलाकर कुल 45 ठिकानों पर जांच के लिए आयकर टीम पहुंची है।

शहर के रियल एस्टेट कारोबारी लगातार निशाने पर

आयकर विभाग के निशाने पर शहर के रियल एस्टेट कारोबारी लगातार निशाने पर हैं। बीते चार-पांच महीनों में शहर के पांचवे बड़े समूह पर छापा मारा गया है। यह अकेला रियल एस्टेट समूह है जिसके नाम पर शहर में एक रोडVका निर्माण भी किया गया है। इंदौर के अलावा मुंबई, बैंगलुरू और कोलकाता में भी समूह से जुड़े लोगों के यहां जांच के लिए टीमें पहुंची है।

कई मामलों में गड़बड़ी की थी शिकायत

बीसीएम समूह हाल ही में तब चर्चा में आया था जब रिलायंस समूह के अस्पताल कोकिलाबेन धीरुभाई अंबानी के साथ उसका नाम जुड़ा था। इंदौर में शुरू हुए इस अस्पताल के लिए जमीन बीसीएम समूह ने ही मुहैया करवाई है।

दरअसल इस समूह के प्रोजेक्ट अन्य रियल एस्टेट समूहों के प्रोजेक्ट के मुकाबले ज्यादा दामों पर बिकते हैं। सूत्रों के अनुसार आयकर विभाग को सूचना मिली थी कि बिक्री कीमतों के साथ प्रोजेक्ट के लिए खरीदी जाने वाली जमीन की कीमतों में भी कागज पर कम मूल्य दिखाया जा रहा है। साथ ही कैपिटल गेन के मामले में भी गड़बड़ी है।

कागज पर कम दामों पर बिक्री दिखाने की शिकायत

समूह के प्रोजेक्ट के लिए बीते दिनों कुछ आयकर विभाग के अधिकारी खरीदार बनकर पहुंचे थे। कागज पर कम दामों पर बिक्री दिखाने की पुष्टी होने के बाद छापे मारे गए। बीसीएम समूह के डायरेक्टरों में राजेश मेहता, अरुण मेहता, नवीन मेहता, रोहिन मेहता व ऋषभ मेहता के नाम शामिल है। गुरुवार सुबह समूह में पैसा लगाने वाले शहर के कुछ अन्य कारोबारियों के यहां भी आयकर टीमें पहुंची है।

यह भी पढ़ें- Madhya Pradesh: राज्य के अधिकारियों-कर्मचारियों की हुई चांदी, इसी सप्ताह बढ़े हुए मंहगाई भत्ते का होगा भुगतान


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.