भोपाल, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए दिए गए 'चौकीदार चोर' के नारे को भाजपा ने जिस तरह से अपने पक्ष में मोड़ने का प्रयास किया है। इस पर अब कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार पर जवाब नहीं दे रहे, मेक इन इंडिया की कोई बात नहीं हो रही, राष्ट्रीय खजाने को एक उद्योगपति को सौंपा जा रहा है। अगर ऐसे चौकीदार होंगे तो देश और घर की रक्षा कहां से होगी।

सिंधिया रविवार को भोपाल में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। भाजपा नेताओं की ओर से अपने नाम के आगे 'मैं भी चौकीदार' लिखे जाने की रणनीति पर सिंधिया ने कहा कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटे। भाजपा ने पांच साल पहले 15 लाख रुपए लोगों के खाते में देने, भ्रष्टाचार समाप्त करने की बात कही थी, लेकिन मोदी सरकार ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया। मध्य प्रदेश में भ्रष्टाचार वाली सरकार को तीन महीने पहले जनता ने हटा दिया, मोदी ने कुछ नहीं किया।

पीएमओ का रक्षा मंत्रालय पर नियंत्रण

सिंधिया ने आरोप लगाया कि रक्षा मंत्रालय पर प्रधानमंत्री कार्यालय का नियंत्रण है। मोदी कहते हैं तो कांग्रेस ने 70 साल में कुछ नहीं किया। उन्होंने चुटकी ली कि हां, यह सही है कि कांग्रेस ने 70 साल यह सब नहीं किया। रक्षा मंत्रालय पर कभी पीएमओ का नियंत्रण नहीं रहा। राफेल मामले में सिंधिया ने कहा कि मोदी सरकार इससे जुड़े प्रश्नों का कोई जवाब नहीं दे रही। कैसे 500 करोड़ की डील 1600 करोड़ रुपये की हो गई। 126 एयरक्राफ्ट की जगह 36 पर कैसे सहमति दी। जो सौदा 126 एयरक्राफ्ट के लिए 62 हजार करोड़ का था, वह 36 एयरक्राफ्ट के लिए 63 हजार करोड़ रुपये का कैसे हो गया।

कांग्रेस अध्यक्ष तय करेंगे उनकी सीट

सिंधिया ने ग्वालियर से चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा है कि उनकी सीट का फैसला कांग्रेस अध्यक्ष करेंगे, लेकिन उनकी प्राथमिकता प्रदेश का विकास होगी। कांग्रेस एक क्रांति का नाम है। पार्टी सत्ता के लिए लड़ाई नहीं लड़ रही, बल्कि जनता के न्याय के लिए चुनाव में जा रही है।

एक-दो बड़े गठबंधन की तैयारी

सिंधिया ने कहा कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस पार्टी एक या दो बड़े गठबंधन की तैयारी कर रही है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव की रणनीति पर भी काम चल रहा है और वहां कांग्रेस अपनी सरकार बनाने में कामयाब रहेगी। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी की भूमिका सिर्फ उत्तर प्रदेश तक सीमित नहीं रहेगी। वे मप्र समेत देश के दूसरे राज्यों में भी चुनाव प्रचार के लिए जाएंगी।

Posted By: Bhupendra Singh