नई दिल्ली [जागरण न्यूज नेटवर्क]। 16वीं लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के लिए प्रचार का शोर शनिवार शाम छह बजे थम गया। अब 12 मई को नौवें चरण के अंतर्गत पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल की शेष बचीं 41 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इन सीटों के करीब 6.6 करोड़ मतदाता 606 प्रत्याशियों के सियासी भाग्य का फैसला करेंगे।

इससे पहले मतदान प्रक्रिया नौ चरणों तक कभी नहीं खिंची थी। आखिरी चरण में उत्तर प्रदेश की 18, बिहार की छह व पश्चिम बंगाल में 17 सीटों पर चुनाव कराए जाएंगे। जिन प्रमुख प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होना है उनमें भाजपा के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी, सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह, फिल्म निर्देशक प्रकाश झा और कांग्रेस से भाजपा में आए जगदंबिका पाल का नाम उल्लेखनीय है।

543 संसदीय सीटों में से 502 पर मतदान प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है। इससे पहले हुए आठ चरणों में रिकॉर्ड 66.2 प्रतिशत मतदान हुए हैं। वर्ष 2009 में करीब 58 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने अधिकार के प्रयोग किए थे। आतंकी और नक्सली हमले की घटनाओं के बावजूद लोगों के कदम नहीं ठिठके। अबतक युवाओं, महिलाओं और बुजुर्गो ने भी परिवर्तन की आस में इस बार जमकर वोटिंग की है।

पढ़े: अपने गिरेबां में झांके सोनिया-राहुल

मैं दिल्ली में होती तो 'दंगाबाबू' को जेल भेज देती: ममता

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस