दो से तीन दिनों की छुट्टिओं में दिल्ली के आसपास की सारी ही जगहें सैलानियों से इस कदर भरी होती हैं कि एन्जॉय कर पाना बहुत ही मुश्किल होता है। तो अगर आप वेकेशन में एन्जॉय करने के साथ ही कुछ नया एक्सप्लोर करने की सोच रहे हैं तो उत्तराखंड के इन ऑफबीट डेस्टिनेशनंस पर डालें एक नजर। जहां प्रकृति ने बिखेरी है अपनी अपार खूबसूरती। 

बिनसर

हिमालय की गोद में बसा उत्तराखंड का बिनसर बहुत ही खूबसूरत जगह है जहां लोग शांति और सुकून की तलाश में जाते हैं। आसपास के हरे-भरे घने जंगलों में आप ट्रैकिंग कर सकते हैं। अल्मोडा से 30 मिनट की दूरी तय करके आप यहां पहुंच सकते हैं। यहां की हरीभरी वादियों पक्षियों के रहने के भी काफी अनुकूल है जिसका अनोखा नजारा आप बिनसर वाइल्डलाइफ सेंक्चुअरी आकर देख सकते हैं। होटल की अपेक्षा यहां होमस्टे के ऑप्शन्स बहुत ज्यादा हैं जो ज्यादातर सैलानियों से भरे होते हैं तो अगर आप यहां आने की प्लानिंग कर रहे हैं तो होमस्टे का एक्सपीरियंस लेना चाह रहे हैं तो बेहतर होगा इसकी बुकिंग पहले से ही करा लें।

चकराता

उत्तराखंड का चकराता भी ऐसी ही जगहों में शामिल है जहां की खूबसूरती को अभी यहां की दूसरी मशहूर जगहों जितना एक्सप्लोर नहीं किया गया है। चकराता की वादियां तो आपको मंत्रमुग्ध कर ही देगी साथ ही अगर आप एडवेंचर के शौकीन हैं तो ये जगह आपको बिल्कुल भी निराश नहीं करेगी। वॉटर रेपलिंग से लेकर ट्रैकिंग जैसे एडवेंचर के मजे आप यहां आकर ले सकते हैं। चीड़ और देवदार के पड़े, ऊंचे-ऊंचे पहाड़ उनसे गिरते झरने चकराता की खूबसूरती में लगाते हैं चार चांद। चकराता आकर मुंडली और देवबन घूमना मिस न करें जहां से हिमालय का अद्भुत नजारा देख सकते हैं। यहां की खारंभा चोटी, जिसकी ऊंचाई 10,000 फीट है काफी एडवेंचरस है। तो देर किस बात की, जुलाई में चकराता घूमने का बनाएं प्लान।

चौपटा

इसे मिनी स्विटजरलैंड भी कहा जाता है कुछ ऐसी है यहां की नैसर्गिक खूबसूरती। ऊंचाई पर बसे होने की वजह से यहां सैलानियों की उतनी भीड़ नजर नहीं आती। यहां तक पहुंचने का रास्ता बहुत ही खूबसूरत है। चौपटा से हिमालय की खूबसूरती को निहारने का अलग ही मजा होता है। तुंगनाथ और चंद्रशीला ट्रैक का बेस कैंप भी चौपटा ही है। समुद्र तल से 2680 मीटर की ऊंचाई पर बसे होने की वजह से ये जगह ज्यादातर बर्फ से ढकी होती है। दिसंबर से फरवरी के बीच यहां आने का प्लान बनाएं जब स्नोफॉल के साथ ही कई तरह के जानवरों को भी देखने का मौका मिलता है।

चौकोरी

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में भी प्रकृति ने अपनी बेशुमार नेमत बरसाई है। यहां एक या दो नहीं बल्कि कई सारी जगहें हैं खूबसूरती को एक्सप्लोर करने के लिए और उनमें से ही एक है चौकोरी गांव। यहां चाय के बागान भी देखने को मिलते हैं। केदार मंदिर, घुनसेरा मंदिर, कपिलेश्वर महादेव गुफा मंदिर भी यहां देखने वाली खूबसूरत जगहों में से एक है। काठगोदाम रेलवे स्टेशन से 270 किमी का सफर तय करके आप इस गांव पहुंच सकते हैं।

 

खिरसू

खिरसू को अद्भुत बनाने का काम करते हैं बर्फ से ढ़के पहाड़ और हरे-भरे जंगल। उत्तराखंड में किसी शांत और खूबसूरत जगह जाकर वेकेशन को एन्जॉय करना चाह रहे हैं तो खिरसू का बनाएं प्लान। पौड़ी से 15 किमी की दूरी पर बसा है खिरसू। ट्रैकिंग के अलावा यहां आकर आप बहुत ही पुराने मंदिर के भी दर्शन कर सकते हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Priyanka Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस