नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। जब अंतरिक्ष यात्री चांद पर जाते हैं तो उन्हें टॉयलेट जाने की दरकार रहती है। अंतरिक्ष यात्रियों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने महिलाओं के लिए यूनिवर्सल वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम नाम का टॉयलेट बनाया है, जिसकी कीमत करीब 23 मिलियन डॉलर है। भारतीय मुद्रा में बात करें तो इसकी कीमत करीब 174 करोड़ रुपए है। उम्मीद की जा रही है कि साल के अंत तक इस टॉयलेट का परीक्षण किया जा सकता है।

नासा लैंडर के लिए कुछ अलग करना चाहता है। नासा को इस टॉयलेट को बनाने में करीब 6 साल लगे हैं और इसे सितंबर तक इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भेजने की तैयारी है। दरअसल बीते सालों में महिला ऐस्ट्रोनॉट्स का स्पेस स्टेशन पर आना-जाना बढ़ गया था। पुराने टॉयलेट के कारण महिला ऐस्ट्रोनॉट्स को दिक्कतें आ रही थीं। ऐसे में नासा ने रिसर्च कर एक खास टॉयलेट बनाया है, जिसे महिला और पुरुष दोनों इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपको बता दें कि नासा में अभी तक जिस टॉयलेट का इस्तेमाल किया जा रहा था, उसे माइक्रोग्रैविटी टॉयलेट कहते हैं। यह मल को रिसाइकल कर देता था। लेकिन अब खास तकनीक से बने टॉयलेट में फनल-फंक्शन सिस्टम होगा, ताकि ऐस्ट्रोनॉट्स इसका बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर सकें।

नया टॉयलेट पुराने टॉयलेट की तुलना में कम वजनी और कम जगह घेरने वाला है। इसमें यूरिन ट्रीटमेंट की सुविधा है और टॉयलेट में बैठते वक्त अंतरिक्ष यात्रियों को पैर फंसाने के लिए भी जगह होगी। जानकारी के मुताबिक, स्पेस स्टेशन के बाद रॉकेट या स्पेसक्राफ्ट में भी इस टॉयलेट का इस्तेमाल किया जा सकता है। जिसे नासा 2024 में मून मिशन अर्टेमिस में भेजेगा। 

                 Written By Shahina Noor

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस