नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Happy Republic Day 2020 Wishes & Images: भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। इस दिन पूरा देश देश भक्ति के रंग में सराबोर होता है। आजादी के ढ़ाई साल बाद 1950 में भारत का संविधान आधिकारिक रूप से 26 जनवरी को लागू किया गया था और इसलिए इस ऐतिहासिक दिन को गणतंत्र दिवस कहा जाता है। 

क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस

भारत ने 15 अगस्त, 1947 को लंबे संघर्ष के बाद ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता हांसिल की थी। वहीं, पंडित जवाहरलाल नेहरू ने नागरिकों को भारत की स्वतंत्रता की घोषणा करते हुए अपना मशहूर भाषण 'ट्राइस्ट विद डेस्टिनी' सुनाया। लेकिन दुख की बात यह है कि भारत देश के लोगों को अपनी सरकार चुनने का अधिकार नहीं था इसके पीछे यह कारण था की भारत में उस समय कोई सविंधान नहीं था। इसलिए ढाई साल बाद 26 जनवरी, 1950 को भारतीय संविधान लागू हुआ, इस तरह भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बन गया। इस दिन के जश्न में हर साल 26 जनवरी को पूरे देश में भारतीय गणतंत्र दिवस बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है।

Republic day wallpaper 2020: गणतंत्र दिवस पर इन खूबसूरत वॉलपेपर्स को भेजकर दें दोस्तों और रिश्तेदारों को दें बधाई

गणतंत्र दिवस का इतिहास

एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया। साल 1929 की दिसंबर में लाहौर में पंडित जावरहलाल नेहरू की अध्यक्षता में कांग्रेस का अधिवेशन किया गया था। इस अधिवेशन में प्रस्ताव पारित करते हुए इस बात की घोषणा की गई कि अगर अंग्रेज़ सरकार द्वारा 26 जनवरी 1930 तक भारत को डोमीनियन का दर्जा नहीं दिया गया तो भारत को पूर्ण रूप से स्‍वतंत्र देश घोषित कर दिया जाएगा।

Happy Republic day Shayari: फैमिली और फ्रेंड्स को इन प्यार भरी शायरी के साथ दें इस दिन की बधाई

26 जनवरी 1930 तक जब अंग्रेज सरकार ने कुछ नहीं किया तब कांग्रेस ने उस दिन भारत की पूर्ण स्वतंत्रता के निश्चय की घोषणा की और अपना सक्रिय आंदोलन आरंभ किया। उस दिन से 1947 में स्वतंत्रता प्राप्त होने तक 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता रहा। इसके बाद 15 अगस्त 1947 को वास्तविक स्वतंत्रा प्राप्त करने के बाद इस दिन स्वतंत्रता दिवस मनाया जाने लगा। भारत के आज़ाद हो जाने के बाद संविधान सभा की घोषणा हुई और इसने अपना कार्य 9 दिसम्बर 1947 से शुरू किया। संविधान सभा के सदस्य भारत के राज्यों की सभाओं के निर्वाचित सदस्यों के द्वारा चुने गए थे।

हाथ से लिखा गया संविधान

भारत का संविधान एक लिखित संविधान है। हमारे संविधान को बनने में दो साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। 395 अनुछेदों और 8 अनुसूचियों के साथ भारतीय संविधान दुनिया में सबसे बड़ा लिखित संविधान है। 26 जनवरी 1950 को डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने गवर्नमेंट हाउस के दरबार हॉल में भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी। भारत क पहले गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो थे। 

1955 में हुई गणतंत्र दिवस की पहली परेड

तीन सालों में संविधान सभा के 165 दिनों में 11 सत्र हुए। 9 दिसंबर 1949 को संविधान का ड्राफ्ट संविधान सभा ने अपना लिया और करीब एक महीने के बाद 26 जनवरी 1950 को पूर्ण स्वराज की मुहीम शुरू करने वाले दिन लागू कर दिया गया। दिल्ली के राजपथ पर गणतंत्र दिवस की पहली परेड 1955 में हुई थी।

राष्ट्र के लिए मान-सम्मान रहे

हर एक दिल में हिन्दुस्तान रहे

देश के लिए एक-दो तारीख नही

भारत मां के लिए ही हर सांस रहे

Happy Republic Day 2019

वतन हमारा ऐसा ना छोड़ पाए कोई,

रिश्ता हमारा ऐसा ना तोड़ पाए कोई,

दिल हमारा एक है, एक है हमारी जान,

हिन्दुस्तान हमारा है और हम है इसकी शान.

Happy Republic Day 2019

चलो फिर से आज वोह नजारा याद कर लें

शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद कर लें

जिसमें बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे

देशभक्तों के खून की वो धारा याद कर लें

Happy Republic Day 2019

 

आजादी का जोश कभी कम ना होने देंगे,

जब भी ज़रूरत पड़ेगी देश के लिए जान लुटा देंगे,

क्योंकि भारत हमारा देश है,

अब दोबारा इस पर कोई आंच ना आने देंगे.

Happy Republic Day 2019

 

आज़ादी की कभी शाम नही होने देंगे

शहीदों की कुरबानी बदनाम नही देंगे 

बची हो जो एक बूंद भी गरम लहू की

तब तक भारत माता का आंचल नीलाम नही होने देंगे

Happy Republic Day 2019

 

ये बात हवाओं को बताए रखना,

रोशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,

लहू देकर जिसकी हिफाजत हमने की,

ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाए रखना.

Happy Republic Day 2019

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस