नई दिल्ली, जेएनएन। दिवाली की तैयारी देशभर में जोरों पर है। धनतेरस से शुरू होकर भैया दूज तक चलने वाले इस त्योहार की तैयारी काफी पहले शुरू हो जाती है। इसके लिए लोग एक-दो सप्ताह पहले ही खरीदारी शुरू कर देते हैं। इस बार 27 अक्टूबर को दिवाली मनाई जाने वाली है। इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा होती है। इस पूजा से धन, संपदा और वैभव में वृद्धि होती है। 

ऐसे में पूजा को पूरे विधान से करने के लिए सामग्री, मूर्तियां और फोटो आदि की जरूरत होती है। हम यहां आपको बता रहे हैं कि इसके लिए आपको किन-किन चीजों की जरूरत पड़ेगी और ये सब कहां मिलेगा। खरीदने से पहले किन बातों का ख्याल रखें-

धनतेरस को नए बर्तन

धनतेरस के दिन लोग नए बर्तन खरीदते हैं। इस बर्तन में पकवान रखकर भगवान धनवंतरि को अर्पित करते हैं। ऐसा करके लोग सुख-संपत्ति और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हैं। इस बर्तन को खरीदने के लिए आप होलसेल मार्केट का रुख कर सकते हैं। दिल्ली के डिप्टीगंज मार्केट में काफी सस्ते बर्तन मिलते हैं। इसके अलावा आप अपने आस-पास ऐसे मार्केट का पता लगा सकते हैं। आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का जमाना है। दिवाली से पहले कई ऑनलाइन शॉपिंग एप्‍स पर सेल भी लगती है। यहां भी सस्ते बर्तन मिलते हैं। इसके अलावा लोग जमीन, प्रॉपर्टी, कार आदि खरीदने और किसी जगह इन्वेस्ट भी करते हैं। यह आप अपनी सोच और सुविधा के अनुसार कर सकते हैं।

दिवाली के दिन पूजा के सामान

दिवाली के दिन मां लक्ष्मी और गणेश की पूजा होती है। इसके लिए काफी तैयारी करनी पड़ती है। आइए जानते हैं इस दिन किन-किन सामान की जरूरत पड़ती है और उन्‍हें कैसे और कहां से खरीदे जा सकते हैं-

मूर्तियां

लोग इस दिन मां लक्ष्मी और गणेश की मूर्ति खरीदते हैं। नई मूर्तियों की पूजा होती है। लोग धातु, मिट्टी और प्लॉस्टर ऑफ पेरिस की मूर्ति भी खरीदते हैं। ऐसे में आप मिट्टी की मूर्ति खरीद सकते हैं। यह सस्ती होती है और साथ ही यह इको फ्रैंडली भी होती है। चूंकि हर साल नई मूर्ति की पूजा होती है, इसलिए पुरानी मूर्ति का विसर्जन कर दिया जाता है। मिट्टी की मूर्ति से आसानी से गल जाती है और पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचती है। यह आपको आसानी से मिल जाएगी। दिवाली से पहले आस-पास कई मूर्तियों के मार्केट खुल जाते हैं। आजकल ये मूर्तियां ऑनलाइन भी मिल जाती हैं। वहीं, अगर आप धातु की मूर्ति खरीदना चाहते हैं तो ऑनलाइन या सुनार के यहां से खरीद सकते हैं। हालांकि, इस समय सोना और चांदी के दामों में काफी बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में यह आपको महंगी पड़ सकती है। अगर प्लास्टर ऑफ पेरिस की मूर्ति खरीदने की सोच रहे हैं, तो इससे बचें। इससे पर्यावरण को काफी नुकसान होता है। 

पूजा सामग्री

दिवाली के दिन मां लक्ष्मी की पूजा होती है। मां लक्ष्मी को शमी का पत्ता और जीठ की लकड़ी प्रिय है। इसके अलावा उन्हें खीर, नारियल का घोला, बेल की लकड़ी और सफेद तिल भी चढ़ता है। ये सभी सामान सर्व सुलभ हैं। सामान्य जनरल स्टोर पर सभी चीजें मिल सकती हैं। आजकल पूजन सामग्री का पैकेट भी मिलता है, जिसे आप खरीद सकते हैं। यह सस्ता होता है और आसानी से मिल भी जाता है। बेल की लकड़ी और शमी का पत्ता आपको आस-पास बिना पैसा खर्च किए हुए मिल जाएंगे। वहीं, खीर आप घर पर बना सकते हैं।

दीया

दिवाली की कल्‍पना बिना दीए के नहीं की जा सकती है। इस दिन पूजन से पहले दीपदान की परंपरा रही है। लोग 21, 51 या 101 दीए का दान करते हैं। आजकल लोग दीए की जगह पर मोमबत्ती और लाइट्स का इस्तेमाल करते हैं। मोमबत्ती और लाइट्स सजावट के लिए तो उपयुक्त हैं, लेकिन दान तो दीए से ही होता है। इसके लिए आप मिट्टी के दीए का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके दो फायदे हैं- पहला यह इको फ्रैंडली है और दूसरा इससे कुम्हारों को रोजगार भी मिलता है। ये दीए बड़े ही आसानी से मिल जाते हैं। दिवाली से पहले दीए और मिट्टी के बर्तन की छोटी-बड़ी मार्केट सज जाती है। मिट्टी के दीए सस्ते होते हैं और आसानी से मिल जाते हैं। आजकल ऑनलाइन भी ये दीए मिल जाते हैं। कुछ लोग धातु के दीए का इस्तेमाल करते हैं।

यहां सवाल यह भी है कि दीए में तेल इस्तेमाल करें या धी। पूजन के लिए देशी गाय के धी का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा अगर आपको गाय का धी नहीं मिल रहा है, तो शुद्ध सरसों के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कॉम्बो पैक

आजकल दिवाली से पहले सुपर मार्केट्स और जनरल स्टोर पर कॉम्बों पैक भी मिलता है। इन पैक में दिवाली के सारे सामान मिल जाते हैं। ये सस्ते भी होते हैं और आप परेशानियों से भी बच जाते हैं। ये पैक ऑनलाइन भी मिलते हैं। ऑनलाइन खरीदते वक्त समय का ध्यान रखें। दिवाली से पहले ऑर्डर कर लें, ताकि सही समय पर ये सामान आप तक पहुंच जाएं।

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप