नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। World Hypertension Day: रक्तचाप को अगर नियंत्रण में रखा जाए, तो कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचा जा सकता है। जिसमें हाइपरटेंशन और दिल की बीमारी से लेकर किडनी फेलियर और आंखों की रोशनी कमज़ोर होना शामिल है। हाइपरटेंशन में नियमित तौर पर बीपी को मॉनिटर करने और दवाइयां लेने के साथ, लाइफस्टाइल में बदलाव भी ज़रूरी होता है ताकि आप इस बीमारी को अच्छी तरह से मैनेज कर सकें।

हाइपरटेंशन के कई कारण हैं, जिसमें ज़रूरत से ज़्यादा नमक का सेवन, कम पोटेशियम, शराब का ज़्यादा सेवन, वर्कआउट न करना और तनाव शामिल हैं। वक्त के साथ बढ़ा हुआ ब्लड प्रेशर कई बीमारियों का कारण बन सकता है जिसमें एंलार्ज्ड हार्ट, क्षतिग्रस्त रक्त वाहिकाएं, किडनी फेलियर, हार्ट फेलियर और आंखों की रोशनी जाना शामिल है।

तो आज हम बात कर रहे हैं गर्मियों के फूड्स की जिनकी मदद से आप हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रख सकते हैं।

केला

केले पोटैशियम, फाइबर और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं, जो आपके बीपी के स्तर को कम रखने में मदद करते हैं। यह पाचन को बढ़ावा देते हैं और आपका पेट लंबे समय तक भरा रखते हैं।

अनार

यह ACE, जो एक एंजाइम है, को कम करने में मदद करता है, जो रक्त वाहिकाओं के आकार को नियंत्रित करता है जो रक्तचाप को कम करता है।

आम

आम फाइबर, बीटा कैरोटीनी और पोटैशियम का बड़ा स्त्रोत होते हैं, जो रक्तचाप को कम करने में कारगर हैं। गर्मी के मौसम में आम का शेक, स्मूदी, मिठाई बनाकर या फिर इसे सीधे काट कर खाया जा सकता है।

स्ट्रॉबेरीज़

यह खट्टा-मीठा फल एंथोसायनिन (एक एंटीऑक्सिडेंट), विटामिन सी, पोटेशियम और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरा होता है जो उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। न सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए बल्कि इसके स्वास्थ्य लाभों के लिए भी स्ट्रॉबेरीज़ को आप सॉस, केक, मिल्कशेक, स्मूदी और सलाद में शामिल कर सकते हैं।

पालक, चुकंदर और अदरक

इस तरह की सब्ज़ियों में नाइट्रेट होते हैं, जो पाचन के बाद नाइट्रिक ऑक्साइड में परिवर्तित हो जाते हैं। नाइट्रिक ऑक्साइड रक्त वाहिकाओं को शिथिल और विस्तारित करके रक्तचाप को कम करता है।

दही

यह पोटेशियम और कैल्शियम से भरा हुआ होता है, जो उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करता है। इसमें स्वस्थ बैक्टीरिया होते हैं जो तनाव और सूजन से राहत दिलाने में मदद करते हैं। गर्मी के दिनों में छाछ, स्मूदी, लस्सी और रायता के रूप में दही का सेवन ज़रूर करना चाहिए।

नारियस पानी

नारियल पानी न सिर्फ शरीर को हाइड्रेट करता है, बल्कि नैचुरल डियूरेटिक की तरह काम भी करता है। यह इलेक्ट्रोलाइट संतुलन को बनाए रखते हुए रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Credit: Pexels

Edited By: Ruhee Parvez