Move to Jagran APP

World Cancer Day: इस तरह के फूड्स बढ़ाते हैं ओवेरियन और स्तन कैंसर का ख़तरा, नई स्टडी में खुलासा

World Cancer Day रेडी टू ईट या फिर रेडी टू कुक फूड्स अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स की कैटगरी में आते हैं। इस तरह के खाने में अस्वस्थ फैट्स चीनी और नमक का स्तर कहीं ज़्यादा होता है। जो खाने को टेस्टी तो बनाते हैं लेकिन सेहत को सिर्फ नुकसान करते हैं।

By Ruhee ParvezEdited By: Ruhee ParvezPublished: Thu, 02 Feb 2023 04:30 PM (IST)Updated: Thu, 02 Feb 2023 06:18 PM (IST)
World Cancer Day: अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स खाने से बढ़ता है ओवेरियन और स्तन कैंसर का ख़तरा, नई स्टडी में खुलासा

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। World Cancer Day 2023: एक नई स्टडी में पाया गया है कि अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स और कैंसर में गहरा रिश्ता है। ईक्लीनिकल मेडिसिन में प्रकाशित हुई एक रिपोर्ट के अनुसार, ब्रिटेन के 1,97,000 से ज़्यादा वयस्कों के डेटा का विश्लेषण करीब 10 साल तक किया गया। जिसमें पाया गया कि कैंसर का जोखिम और कैंसर से जुड़ी मौतों के पीछे अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स की भी भूमिका है। जैसे-जैसे एक व्यक्ति की डाइट में इस तरह के खाने की मात्रा बढ़ती है, वैसे ही कैंसर का ख़तरा भी बढ़ता है।

रिसर्च के ऑथर, डॉ. एज़्टर वामोस ने बताया कि स्टडी बताती है कि अगर हम अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स को हम अपनी लाइफस्टाइल से दूर रखेंगे, तो इससे कैंसर का ख़तरा भी कम होगा। अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स खाने से सेहत को गंभीर नुकसान पहुंचते हैं, जिसमें मोटापा और टाइप-2 डायबिटीज़ का जोखिम शामिल है। लोगों को पता होना चाहिए कि उनका ज़्यादा सेवन किस तरह सेहत के लिए ख़तरा पैदा करता है।

अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स की कैटगरी में क्या आता है?

नाश्ते में खाए जानें वाले सीरियल्स, फ्रोज़न पिज़्ज़ा, रेडी टू ईट मील्स और सोडा वाली ड्रिंक्स का सेवन कैंसर के ख़तरे को बढ़ाने का काम करता है। खासतौर पर शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे ओवेरियन और स्तन कैंसर का ख़तरा बढ़ सकता है। कई प्रोडक्ट्स ऐसे भी होते हैं, जिनकी प्रोसेसिंग मात्रा मध्यम होती है, जैसे- चीज़, सॉल्टेड पीनट बटर, पास्ता सॉस। लेकिन, अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड्स की लत लग जाती है, उनमें आर्टिफीशियल स्वाद, रंग, स्वीटनर और प्रिज़र्वटिव्ज़ होते हैं। यानी इन फूड्स के स्वाद, टेक्चर को बदला जाता है, जिसमें हॉट डॉग्ज़, डोनट्स, मैकरोनी एंड चीज़, मफिन्स, फ्लेवर्ड योगर्ट आदि शामिल हैं।

किसी भी प्रोडक्ट के लेबल पर अगर सामग्री की लंबी लिस्ट है, तो समझ जाएं कि यह अल्ट्रा-प्रोसेस्ड है। साथ ही इनमें कैमिकल्स के भी कई नाम होते हैं। उदाहरण के तौर पर, कई प्रोडक्ट्स पर लोगों को गुमराह करने के लिए चीनी की जगह 'राइस सिरप' लिखा जाता है।

अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड किस तरह के कैंसर का ख़तरा बढ़ाते हैं?

रिसर्च का हिस्सा रहे 1,97,426 प्रतिभागियों में से 15,921 लोगों को कैंसर हुआ और 4,009 लोगों की कैंसर से मौत हो गई। वामोस और उनके सहकर्मियों ने पाया कि किसी व्यक्ति की डाइट में अगर अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड का मात्रा 10 फीसदी बढ़ती है, तो इससे सभी तरह के कैंसर का ख़तरा 2 प्रतिशत बढ़ जाता है, लेकिन ओवेरियन कैंसर का जोखिम 19% बढ़ जाता है।

इसी तरह कैंसर से मौत का ख़तरा भी बढ़ता है। अल्ट्रा-प्रोसेस्ड फूड की मात्रा अगर 10 प्रतिशत बढ़ती है, तो इससे कैंसर से मौत का ख़तरा 6 फीसदी बढ़ जाता है और ओवेरियन कैंसर से मौत का जोखिम 30 प्रतिशत तक हो जाता है। साथ ही स्तन कैंसर का ख़तरा 16% बढ़ता है।

हालांकि, स्टडी यह साबित नहीं करती कि अल्ट्रॉ-प्रोसेस्ड फूड्स ही सीधे तौर पर कैंसर पैदा कर रहे हैं। हालांकि, इससे यह साबित होता है कि प्रोसेस्ड फूड का सेवन वज़न बढ़ाता है और हेल्दी फूड्स का सेवन कम करता है। लोग ताज़ा फल और सब्ज़ियां कम खाते हैं, जिससे शरीर को ज़रूरी पोषक तत्व नहीं मिल पाते। मोटापे से 13 तरह के कैंसर जुड़े हुए हैं। साथ ही प्रोसेस्ड फूड्स में प्रिज़र्वटिव्ज़ होते हैं, जो गर्म होने पर कैंसर का कारण बनते हैं।

साथ ही जिन खाने की चीज़ों को हम माइक्रोवेव करते हैं, उनमें एस्ट्रोजन अवरोधक होते हैं, जो खाने को गर्म करने पर रिलीज़ होते हैं। यही वजह है कि हम आजकल महिलाओं में कैंसर के मामलों को बढ़ता देख रहे हैं।

फिर किस तरह की डाइट लेनी चाहिए?

  • सेहत को अच्छा बनाए रखने के लिए ज़रूरी है कि हम ज़्यादा से ज़्यादा घर का ताज़ा बना खाना ही खाएं।
  • मौसमी फलों और सब्ज़ियों को डाइट में ज़रूर शामिल हैं।
  • खाने को बहुत दिनों तक फ्रिज में स्टोर करके न रखें।
  • बाज़ार में मिलने वाले पैकेज्ड और फ्रोजन खाने से दूर रहें।

Disclaimer:लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Courtesy: Freepik

This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.