नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Ideal Pregnancy Weight: प्रेंगनेंसी हर महिला के लिए ख़ास होती है। ये एक ऐसा समय होता है, जब आपकी ख़ूब ख़िदमत की जाती है और घर में खुशियां आती हैं। साथ ही इस समय महिलाओं को कभी भी कुछ खास खाने का दिल चाहने लगता है। हालांकि, मनपसंद चीज़ें खाते-खाते वज़न भी हद से ज़्यादा बढ़ जाता है। 

वैसे प्रेगनेंसी के दौरान ज़्यादा वज़न बढ़ जाना महिलाओं में एक आम समस्या है। एक शोध के अनुसार 40 प्रतिशत महिलाएं प्रेंगनेंसी के दौरान ज़रूरत से ज़्यादा वज़न बढ़ा लेती हैं।

लेकिन प्रेंगनेंसी के दौरान वज़न तो बढ़ता ही है?

देखा जाए, तो आप एक समय में दो शरीर की देखभाल कर रही हैं। आपको अपने शरीर के लिए पोषक तत्वों के साथ बच्चे की ज़रूरतों का भी धयान रखना होता है। इसके साथ इस समय कई मीठे से लेकर तला हुआ खाने का दिल चाहता है। जिससे वज़न बढ़ता ही है। 

लेकिन, जोखिम भरा भी हो सकता है!

प्रेगनेंसी के दौरान ज़्यादा वज़न बढ़ जाने से न सिर्फ बाद में आपको इसे कम करने में दिक्कत आएगी, बल्कि इसका असर आपके बच्चे के पोषण और विकास पर भी पड़ेगा। जिन मांओं का प्रेगनेंसी के दौरान वज़न ज़्यादा हो जाता है, उन्हें हाइपरटेंशन, डायबिटीज़, लंबा लेबर, ऑपरेशन या बच्चे का वक्त से काफी पहले पैदा हो जाना, जैसी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

कई शोध में ये बात भी सामने आई है कि जो मांएं प्रेगनेंसी के दौरान ज़्यादा वज़न बढ़ा लेती हैं, उनके बच्चों की सेहत पर लंबे समय तक असर पड़ सकता है।

प्रेगनेंसी के दौरान बढ़ा हुआ कितना वज़न माना जाता है सही?

प्रेगनेंसी के दौरान सही वज़न हर महिला में अलग हो सकता है। ये उनकी उम्र, बॉडी मास इंडेक्स या फिर पहले से किसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो ये सब देखकर मापा जा सकता है। आपके वज़न में अगले 9 महीने में 11 से 16 किलो जुड़ना हेल्दी माना जाता है। 

प्रेगनेंसी के दौरान वज़न इस बात पर भी निर्भर करता है कि प्रेगनेंसी से पहले महिला दुबली-पतली थी या ज़्यादा वज़न था। वज़न बढ़ना हर महीला में अलग तरह का हो सकता है। कुछ महिलाओं का वज़न प्रेगनेंसी की शुरुआत में ही बढ़ जाता है, वहीं कुछ का आखिरी के तीन महीनों में बढ़ता है। इसके बावजूद 9 महीनों तक संतुलित वज़न बनाए रखना ज़रूरी है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस