नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोनावायरस की दूसरी लहर की तबाही के बाद अब कोरोना की तीसरी लहर का डर सताने लगा है। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा खतरनाक साबित हो सकती है। तीसरी लहर की भविष्यवाणी से लोगों में डर और बढ़ गया है, हालांकि अभी तक इसके कोई पुख्ता सबूत सामने नहीं आए है। तीसरी लहर का शिकार बच्चें हो सकते हैं, इसलिए बच्चों की हिफाजत करना बेहद जरूरी है। बच्चों को इस बीमारी का शिकार होने से बचाना है तो उनकी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग करना होगा, ताकि वो इस बीमारी का सामना कर सकें। बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए बच्चों को तुलसी का काढ़ा पीलाएं।

औषधीय गुणों से भरपूर तुलसी में विटामिन और खनीज प्रचूर मात्रा में पाए जाते हैं। तुलसी ना सिर्फ इम्यूनिटी को बूस्ट करती है बल्कि कई बीमारियों का उपचार भी करती है। तुलसी के पत्तों का सेवन करके बुखार, दिल से जुड़ी बीमारियां, पेट दर्द, मलेरिया और बैक्टीरियल संक्रमण से भी निजात मिलती है। तुलसी सिर दर्द और सर्दी खांसी से भी निजात दिलाती है। इतनी गुणकारी तुलसी का सेवन करके बच्चों में इम्यूनिटी को बूस्ट किया जा सकता है। तुलसी की पत्तियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के गुण मौजूद होते हैं। अगर इसका काढ़ा के रूप में सेवन किया जाए तो इसके सकारात्मक फायदे देखने को मिलते हैं। जानिए घर पर तुलसी का काढ़ा बनाने की आसान विधि।

तुलसी काढ़ा सामग्री:

  • तुलसी की चार पत्तियों
  • काली मिर्च
  • अदरक के छोटे टुक्ड़े
  • शहद

तुलसी की पत्तियों, काली मिर्च और अदरक को एक कटोरी में एक साथ पीस लें, और इसे एक कप पानी में उबालें और फिर शहद मिलाकर बच्चों को पिलाएं।​

तुलसी और शहद की चाय:

आप चाहें तो तुलसी और शहद की चाय भी बच्चों को पिला सकते हैं। तुलसी में एंटी-इंफ्लामेट्री गुण होते हैं, जो बीमारियों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाते हैं। आयुष मंत्रालय भी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए तुलसी का सेवन करने की सलह दे चुका है।  

Edited By: Shahina Soni Noor