दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Health Benefits of Ragi: डायबिटीज के मरीजों के लिए कठिन काम शुगर कंट्रोल करना है। इसके लिए डाइट और लाइफस्टाइल पर पैनी नजर रखनी पड़ती है। लापरवाही बरतने से शुगर लेवल बढ़ जाता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो गलत खानपान और खराब दिनचर्या की वजह से रक्त में शर्करा स्तर बढ़ने लगता है। इसके लिए डायबिटीज के मरीजों को मीठी चीजों से परहेज करना अनिवार्य है। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं और शुगर कंट्रोल में रखना चाहते हैं, तो रोजाना संतुलित आहार लें, एक्सरसाइज करें, पर्याप्त नींद लें, तनाव से दूर रहें और चीनी का सेवन बिल्कुल न करें। इसके अलावा, डाइट में रागी को जरूर शामिल करें। रागी के सेवन से बढ़ते शुगर को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। कई शोधों में खुलासा हुआ है कि रागी बढ़ते शुगर को कंट्रोल करने में मददगार साबित हो सकती है। इसमें एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते हैं, जो मधुमेह में फायदेमंद होते हैं। आइए, रागी के बारे में सबकुछ जानते हैं-

रागी क्या है

रागी एक मोटा अनाज है। इसकी खेती भारत समेत विश्व के कई देशों में की जाती है। हालांकि, मोटा अनाज होने की वजह से आजकल रागी की खेती बहुत कम होती है। ऐसा कहा जाता है कि रागी में पानी की ज्यादा जररूत नहीं पड़ती है। इसमें आवश्यक पोषक तत्व अमीनो अम्ल मेथोनाइन पाया जाता है।

शुगर कंट्रोल में रहता है

हेल्थ एक्सपर्ट्स हमेशा डायबिटीज के मरीजों को फाइबर रिच फूड खाने की सलाह देते हैं। फाइबर युक्त भोजन देर से पचता है। इस वजह से पेट देर तक भरा रहता है। साथ ही पाचन तंत्र मजबूत होता है। इसमें फाइबर के अलावा, कैल्शियम भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसके सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं। वहीं, शुगर भी कम होती है। इसके लिए डायबिटीज के मरीज रोजाना रागी की रोटी का सेवन कर सकते हैं। इससे शुगर कंट्रोल करने में मदद मिल सकती है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट