नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Men Health Guide: यह अनुमान लगाया गया है कि 10 में से 1 पुरुष को यौन से संबंधित समस्या होती है, जिसमें इरेक्टाइल डिसफंक्शन आम है। यौन समस्याएं किसी भी पुरुष को प्रभावित कर सकती हैं, चाहे वह स्ट्रेट हों, समलैंगिक, उभयलिंगी या ट्रांसजेंडर हों। ऐसे में पुरुषों को डॉक्टर से इन समस्याओं को ज़रूर डिस्कस करना चाहिए। आइए जानें ऐसे ही 4 सवाल जो पुरुषों को अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछने चाहिए।

1. असामान्य बीमारियां और यौन स्वास्थ्य जिनके बारे में पुरुषों को जानना चाहिए?

डॉ. एसएस वासन [(बैंगलोर) एमबीबीएस, डीएनबी-जनरल सर्जरी, डीएनबी-यूरोलॉजी/जेनिटो-यूरिनरी सर्जरी, एफआईसीएस, एंड्रोलॉजी और इनकांटीनेंस में फेलोशिप (सिंगापुर)] का कहना है:

ज़्यादा कॉलेस्ट्रॉल: पुरुषों में कॉलेस्ट्रॉल ज़्यादा होने का सीधा असर यौन जीवन पर पड़ता है। पुरुषों में छूने, संपर्क या मन में विचार आने से शरीर ऐसे रसायन छोड़ता है, जिससे पेनाइल नसें आराम करती हैं। कॉलेस्ट्रॉल मोम जैसा होता है, जिसे वसा या चर्बी जैसा समझ सकते हैं। खून की धारा में कॉलेस्ट्रॉल ज़्यादा हो तो धमनियों में रुकवाट बन जाता है, जो खून के प्रवाह को सामान्य नहीं रहने देता और बाधित करता है। इन बाधाओं के कारण पूरे शरीर में खून का प्रवाह अपर्याप्त होता है। इनमें लिंग और जननांग वाली जगह शामिल है। परिणाम स्वरूप लिंग के सख्त होने से संबंधित समस्या पैदा होती है। इसके अलावा, शरीर में कॉलेस्ट्रॉल ज़्यादा होने से इरेक्शन के लिए आवश्यक रसायनों का उत्पादन मुश्किल हो जाता है। इससे पेनाइल टिश्यू को उपयुक्त आराम नहीं मिलता है जिससे इरेक्टाइल ग्रोथ हो सके।

दिल की बीमारी (कार्डियो वस्कुलर डिजीज): हृदय की बीमारी और स्ट्रोक पुरुषों व महिलाओं दोनों में पहली व दूसरी सबसे आम बीमारी है। इसलिए फिज़िकल एक्टिविटी और आहार में बदलाव लाने की सलाह दी जाती है।

अवसाद और डायबिटीज़: अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो डायबिटीज़ से नर्व और किडनी क्षतिग्रस्त हो सकते हैं, हृदय की बीमारी हो सकती है और स्ट्रोक आ सकता है। दृष्टि की समस्या या दृष्टिहीनता भी हो सकती है। डायबिटीज़ के शिकार पुरुषों में निम्न टेस्टोटेरोन लेवल और यौन अक्षमता का जोखिम होता है। इससे अवसाद व चिन्ता बढ़ सकती है।

2. अच्छे यौन स्वास्थ्य के लिए 6 टिप्स

डॉ. विनीत मल्होत्रा, क्लिनिकल डायरेक्टर, डियोस मेन्स हेल्थ सेंटर, नई दिल्ली का कहना है:

1. हेल्दी खाना खांए: ताज़े फल, सब्ज़ियां और एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर भोजन कीजिए। ओमेगा-थ्री फैटी एसिड से समृद्ध सी-फूड भी डाइट में शामिल करें।

2. धूम्रपान छोड़ें: यह यौन सक्रियता और प्रजनन क्षमता दोनों के लिए नुकसानदेह है।

3. अत्यधिक शराब का सेवन छोड़िए: शराब का सेवन सीमित कीजिए क्योंकि इससे आपके यौन स्वास्थ्य को नुकसान हो सकता है।

4. तनाव से बचें: तनाव से बचने के लिए कुछ ऐसी विधियां अपनाने की सलाह दी जाती है, जिससे तनाव तो कम हो ही, नींद भी अच्छी आए।

5. नियमित व्यायाम: अच्छे यौन स्वास्थ्य के लिए रोज़ाना 45 मिनट से एक घंटे तक व्यायाम करें। सप्ताह में कम से कम 5 दिन वर्कआउट ज़रूर करें।

6. अच्छा यौन स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए नियमित यौन गतिविधि महत्वपूर्ण है।

3. घर पर यौन स्वास्थ्य को ठीक करने वाले प्राकृतिक उपचार

डॉ. रमन तंवर, चीफ एंड्रोलॉजिस्ट (यूरो सेंटर, ज्योति हॉस्पीटल, गुड़गांव; सेक्रेट्री जनरल मेन्स हेल्थ सोसाइटी ऑफ इंडिया) का कहना है:

तीन युवाओं में से एक और दो बूढ़ों में से एक इरेक्टाइल डिसफंक्शन के शिकार हैं। इरेक्ट्राइल डिसफंक्शन को दो किस्मों में वर्गीकृत किया जा सकता है। इनमें एक मनोवैज्ञानिक इरेक्टाइल डिसफंक्शन है जहां सोचने की प्रक्रिया के साथ कोई समस्या नहीं है। दूसरा ऑर्गेनिक इरेक्टाइल डिसफंक्शन है, जहां इरेक्शन का नियमन करने वाले अंगों में कोई बीमारी होती है, जिसे ठीक करने की आवश्यकता होती है। इरेक्टाइल की समस्या को दूर करने के लिए आप इन प्राकृतिक उपचार की मदद ले सकते हैं।

- स्ट्रेस मैनेजमेंट: तनाव कई बीमारियों की वजह होता है, जिसमें से एक इरेक्टाइल डिसफंक्शन भी है। इसे दूर करने के लिए रोज़ाना व्यायाम करें, योग करें, ध्यान करें, ताकि तनाव से दूरी बन सके।

- स्वस्थ आहार लीजिए: यौन मामलों में आहार का महत्वपूर्ण योगदान होता है। इसलिए, आहार को संतुलित होना चाहिए और इसमें ताज़े और कच्चे फलों व सब्ज़ियों का हिस्सा ज़्यादा होना चाहिए।

- धूम्रपान और शराब पीना सीमित कीजिए: इरेक्शन की समस्या को रोकने के लिए नशा, खासकर धूम्रपान से बचना बहुत ज़रूरी है। धूम्रपान का सीधा संबंध इरेक्टाइल डिसफंक्शन से है।

4. क्या धूम्रपान से पुरषों में यौन स्वास्थ्य की समस्या खड़ी होती है?

डॉ. संजय पांडेय (कंसलटैंट एंड्रोलॉजिस्ट, यूरोलॉजी विभाग, कोकिला बेन अस्पताल) का कहना है कि धूम्रपान और तंबाकू किसी भी रूप में व्यक्ति के स्वास्थ्य पर ख़राब असर डालते हैं। आज शारीरिक और मानसिक तनाव इरेक्टाइल डिसफंक्शन में योगदान करते हैं और यह कई तरह से होता है। पुरुषों में यौन स्वास्थ्य की समस्या जिन आम कारणों से पैदा होती है वे हैं, डायबिटीज, हाइपरटेंशन, मोटापा, बढ़ती उम्र, कोलेस्ट्रॉल का बढ़ता स्तर। प्रजनन स्वास्थ्य से संबंधित मामले किसी के भी साथ किसी भी आयुवर्ग में हो सकते हैं। इसलिए रोज़ाना किसी न किसी रूप में शारीरिक व्यायाम करना, स्वस्थ संतुलिक आहार लेना और स्वस्थवज़न बनाए रखना महत्वपूर्ण है। वजन कम या ज्यादा होने से भी पुरुषों की प्रजनन प्रणाली से संबंधित समस्या हो सकती है।

प्रजनन स्वास्थ्य से संबंधित समस्याओं का अनुभव कोई भी कर सकता है। यह समझना ज़रूरी है कि इन समस्याओं के पीछे हमारी ख़राब जीवनशैली एक अहम भूमिका निभाती है। यही वजह है कि रोज़ाना व्यायाम करने के साथ स्वस्थ आहार, सही वज़न और साफ-सफाई भी ज़रूरी है। वज़न कम या ज़्यादा होने से भी पुरुषों की प्रजनन प्रणाली पर असर पड़ता है। हेल्दी लाइफस्टाइल के बावजूद अगर आप प्रजनन क्षमता से संबंधित किसी परेशानी से गुज़र रहे हैं, तो आपको एंड्रोलॉजिस्ट से ज़रूर सलाह लेनी चाहिए। इन समस्याओं को नज़रअंदाज़ करना आपको और नुकसान पहुंचा सकता है। इस बात को समझना ज़रूरी है कि बच्चा न होने की समस्या का इलाज किया जा सकता है और इसका हल बेहतर लाइफस्टाइल और कंसलटेशन से मुमकिन है। इसलिए यौन संबंधित किसी भी समस्या को लेकर शर्म न करें बल्कि डॉक्टर से खुलकर डिस्कस करें।

Edited By: Ruhee Parvez