नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Stress In Pregnancy: वैसे तो स्ट्रेस लेना किसी भी हालत में अच्छा नहीं होता है लेकिन इसका सबसे ज्यादा बुरा असर प्रेग्नेंसी के दौरान पड़ता है। अगर इस दौरान कोई महिला तनाव लेती है तो उसके गर्भ में पल रहे बच्चे पर इसका बेहद बुरा असर पड़ता है। अगर एक स्टडी की मानें तो इस दौरान अगर कोई महिला तनाव में रहती है तो उसका सीधा असर बच्चे के दिमाग पर पड़ता है।

 JAMA पीडिऐट्रिक्स नाम के जर्नल में प्रकाशित होने वाली इस स्टडी के मुताबिक मैटरनल स्ट्रेस यानी गर्भावस्था के दौरान अगर होने वाली मां किसी भी तरह का स्ट्रेस लेती है तो या अगर वो डिप्रेशन या ऐंग्जाइटी में रहती है तो इससे होने वाले बच्चे के ब्रेन के विकास पर बुरा असर पड़ता है।

इस बारे में सेंटर फॉर द डेवलपिंग ब्रेन फॉर चिल्ड्रन नेशनल की निदेशक ने कैथरीन लिम्परोपोलोस बताया कि इतनी बड़ी संख्या में प्रेग्नेंट महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्चे में भ्रूण में होने वाली गंभीर हार्ट प्रॉब्लम की दिक्कत को देखने को मिली। ये देखकर हम हैरान थे। वहीं  इनमें से ज्यादातर महिलाओं में स्ट्रेस और डिप्रेशन देखने को मिला। बता दें कि Congenital heart disease CHD (congenital heart disease) यानी जन्मजात दिल की बीमारी, हार्ट से जुड़ी एक ऐसी दिक्कत है जो बच्चों में होने वाली सबसे कॉमन जन्म के समय से ही होने वाली बीमारी है।

हालांकि स्टडी में शामिल हुए शोधकर्ताओं का ये भी मानना है कि इस मामले में और ज्यादा रिसर्च करने की जरूरत है। लेकिन फिलहाल इस स्टडी के नतीजे इस बात पर जोर देते हैं कि प्रेग्नेंट महिलाएं अगर किसी भी तरह से स्ट्रेस में हैं तो उनका खास ख्याल रखा जाए तो उनके गर्भ में पल रहे बच्चे के ब्रेन का सही तरीके से विकास हो सके। गौरतलब है कि ये रिसर्च 140 महिलाओं  पर किया गया था।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस