Move to Jagran APP

Healthy Gums Tips: स्वस्थ्य दांत पाना है तो मसूड़ों को ना करें अंदाज, अपनाएं यह टिप्स

Healthy Gums Tips मसूड़ों का स्वास्थ्य आपके दांतों के स्वास्थ्य को भी निर्धारित करता है। इतना आवश्यक होने के बावजूद कभी-कभी हम अपने ओरल क्लीनलीनेस रूटीन में मसूड़ों की अनदेखी कर जाते हैं। जानें उनके देखभाल के टिप्स-

By Ritu ShawEdited By: Ritu ShawPublished: Sat, 11 Feb 2023 11:10 AM (IST)Updated: Sat, 11 Feb 2023 11:10 AM (IST)
Healthy Gums Tips: स्वस्थ्य दांत पाना है तो मसूड़ों को ना करें अंदाज, अपनाएं यह टिप्स

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Healthy Gums Tips: स्वस्थ दांत वही होते हैं जिनके मसूड़े सबसे स्वस्थ और मजबूत होते हैं। ऊपरी और निचले जबड़े के टिशू जो दांतों के आधार को घेरते हैं और दांत को हड्डी से चिपकाने में सक्षम बनाते हैं, उन्हें मसूड़ों के रूप में जाना जाता है। मसूड़े जिन्हें जिंजिवा के नाम से भी जाना जाता है उनका स्वास्थ्य आपके दांतों के स्वास्थ्य को भी निर्धारित करता है। इतना आवश्यक होने के बावजूद, कभी-कभी हम अपने ओरल क्लीनलीनेस रूटीन में मसूड़ों की अनदेखी कर जाते हैं। ऐसे में अगर आप भी सोच रहे हैं कि अपने मसूड़ों को स्वस्थ कैसे रखा जाए, यहां से लें कुछ टिप्स-

मसूड़ों की देखभाल करने के 7 तरीके-

1. नियमित ब्रश करें

दांतों में ब्रश करना पहला कदम है जिसे आप अपने ओरल हेल्थ और मसूड़ों की देखभाल के लिए उठा सकते हैं। सॉफ्ट या मीडियम ब्रिसल वाले टूथब्रश और फ्लोराइड वाले टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें, रोजाना सुबह और शाम ब्रश जरूर करें। ध्यान दें कि अपने दांतों को जोर से "स्क्रब" न करें। बस ब्रश को एक पेंसिल की तरह पकड़ें और हल्के हाथों से सर्कुलर मोशन में घुमाएं। मसूड़े नाजुक टिशू से बने होते हैं इसलिए इसपर ज्यादा जोर से ब्रश को ना घिसें। अपनी जीभ और अपने मुंह की छत को ब्रश करना न भूलें। हर दो से तीन महीने में ब्रश को बदलें या जब ब्रिसल्स खराब हो जाएं।

2. दिन में एक बार फ्लॉस करें

फ्लॉसिंग अभी भी आपके दांतों के बीच से भोजन और प्लाक को हटाने का सबसे प्रभावी तरीका है जो ब्रश करते समय छूट जाते हैं। इन बचे हुए खाद्य पदार्थ और प्लाक को अगर हटाया नहीं गया तो यह आपके मसूड़ों में जलन पैदा कर सकते हैं तो सुनिश्चित करें कि आप दिन में कम से कम एक बार फ्लॉस करते हैं। इससे आपके दांत चमकदार दिख सकते हैं।

3. गम के अनुकूल खाद्य पदार्थों का सेवन करें

मीठे खाद्य पदार्थ, गोंद और सोडा सभी मुंह में हानिकारक जीवाणुओं के विकास को प्रोत्साहित करते हैं, जो मसूड़ों की बीमारी का कारण बन सकते हैं। आलू के चिप्स और सूखे मेवे सभी आपके दांतों से चिपक सकते हैं। ऐसे में अगर इसे तुरंत नहीं हटाया गया, तो यह आपके ओरल हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकते हैं। डेयरी उत्पाद और अन्य कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ आपके दांतों के लिए बहुत अच्छे हैं। ताज़े फल, हम्मस और सब्जियां सभी आपके हेल्दी माने जाते हैं। लेकिन अगर आप कुछ मीठा खाते हैं, तो ध्यान रखें कि बाद में पानी से कुल्ला जरूर कर लें। अगर आपने मीठा खाया है या कार्बोनेटेड पेय पदार्थ पिया है, तो अपने दांतों को ब्रश करने से पहले कम से कम 30 मिनट प्रतीक्षा करें।

4. हाइड्रेटेड रहें

मुंह को स्वस्थ बनाए रखने और जीवाणुओं के संतुलित विकास के लिए लार आवश्यक है। क्योंकि लार की मदद से भोजन के कण मुंह से चले जाते हैं, जो उन्हें दांतों के बीच फंसने से बचाते हैं। ऐसा करने से आपके मुंह में मौजूद फूड पार्टिकल्स पर बैक्टीरिया के पनपने की संभावना कम हो सकती है। अपने मुंह में लार की आदर्श मात्रा को बनाए रखने के लिए रोजाना 7-8 गिलास पानी पिएं, खासकर जब आप प्यासे हों या आपका मुंह सूखा हो।

5. मसूड़ों की बीमारी के खतरे को पहचानें

मसूड़ों की बीमारी के कई जोखिम कारक हैं जो आपके नियंत्रण से बाहर हैं। यदि आपको नीचे दिए गए कारकों में से कोई भी है, तो इसे रोकने के तरीकों के बारे में तुरंत ध्यान दें-

मधुमेह

मसूड़ों की बीमारी का पारिवारिक इतिहास

महिलाओं और लड़कियों में हार्मोनल चेंजेस

दवाएं जो आपके मुंह को सुखा रही हों

कैंसर या एड्स जैसे प्रतिरक्षा-प्रभावित रोग

खराब मौखिक स्वच्छता की आदतें

6. धूम्रपान से बचें

आपको धूम्रपान से बचना चाहिए क्योंकि मसूड़ों की बीमारी और खराब डेंटल हेल्थ दोनों ही इससे संबंधित हैं। रोग नियंत्रण केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, धूम्रपान कथित तौर पर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली से समझौता करता है और मसूड़ों के संक्रमण से लड़ना अधिक चुनौतीपूर्ण बना देता है।

7. साल में दो बार डेटिस्ट से मिलें

मसूड़ों की बीमारी के कारण खराब दांत हो सकते हैं। इसलिए आप अच्छी मौखिक स्वच्छता का अभ्यास करके मसूड़े की बीमारी के विकास से बच सकते हैं। घर पर ही मौखिक देखभाल से मसूड़ों की बीमारी को रोका जा सकता है और इसका इलाज किया जा सकता है। इसके अलावा दांतों के नियमित टेस्ट भी जरूरी हैं। डेंटिस्ट आपके दांतों से प्लाक को साफ करता है जो मसूड़ों की बीमारी को रोकने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें किसी पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.