नई दिल्‍ली, जेएनएन। Girls Are Physically Less Active Than Boys Claims WHO Report : वैश्विक मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक टीनएज गर्ल्‍स फिजिकल एक्टिविटी के मामले में ब्‍वॉयज से काफी पीछे हैं। शारीरिक मेहनत नहीं करने से उनके मानसिक विकास में परेशानी आ सकती है। आपकी बेटी गंभीर बीमारी का शिकार हो इससे पहले ही आपको ये 4 उपाय कर लेने चाहिए।

146 देशों के टीनएजर्स पर रिसर्च

डब्‍ल्‍यूएचओ की आई ताजा रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि दिनभर में कम से कम एक घंटे तक फिजिकल एक्टिविटी के पैमाने पर गर्ल्‍स खरी नहीं उतरी हैं। लगातार 15 साल तक 146 देशों के टीनएज ग्रुप के बच्चों पर किए गए शोध के बाद यह बात सामने आई है। इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि ब्‍वॉयज के मुकाबले गर्ल्‍स फिजिकल एक्टिविटी में काफी पीछे हैं।

60 सेकेंड के पैमान पर गर्ल्‍स फेल

डब्‍ल्‍यूएचओ के लीड रिसर्चर डॉक्‍टर रेजिना गटहोल्‍ड ने बताया कि रिसर्च में 11 से 17 साल की उम्र के किशोर बच्‍चों को शामिल किया गया और इनकी दिनचर्या पर नजर रखी गई। इस दौरान 24 घंटे में मात्र 60 सेकेंड फिजिकल एक्टिविटी का पैमाना सेट किया गया। चौंकाने वाली बात ये रही कि 60 सेकेंड यानी एक घंटे के पैमाने पर भी गर्ल्‍स खरी नहीं उतरीं। ऐसे में गर्ल्‍स गंभीर रूप से शारीरिक और मानसिक बीमारियों का शिकार हो सकती हैं।

बीमारियों से बचाने के चार उपाय

चिकित्‍सकों ने टीनएज गर्ल्‍स और ब्‍वॉयज को फिजिकली एक्टिव करने के लिए गैजेट्स से दूर करने की सलाह दी है। इसके अलावा दूसरा उपाय मॉर्निंग वॉक और योग को बताया है। तीसरे उपाय में आउटडोर स्‍पोर्ट्स को शामिल किया गया है। जबकि, चौथे उपाय में साइक्लिंग, स्विमिंग को वरीयता दी गई है। विशेषज्ञों के मुताबिक अभिभावक अगर अपने बच्‍चों से इन चार स्‍टेप्‍स को फॉलो करा लेते हैं तो उनकी हेल्‍थ पर आने वाले खतरे कम हो जाएंगे और वह बीमारियों से बच पाएंगे। 

Posted By: Rizwan Mohammad

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस