नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। सर्दी का मौसम जैसे-जैसे विदाई ले रहा है वैसे-वैसे मौसम के बदलाव का असर सेहत पर भी दिख रहा है। मोटे कपड़े कम होते जा रहे हैं और गर्म चीजों की जगह ठंडी चीजें ले रही हैं, मौसमी बदलाव का असर हमारी सेहत पर साफ दिख रहा है। इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशान गला ही करता है। इस मौसम में ठंडे पानी, कोल्ड्रिंक्स और ठंडी चीजों के सेवन से गले की खराश होना आम बात है। मौसम के बदलाव के कारण सर्दी, जुकाम एवं गले में दर्द या गले में खराश रहती है। बदलते मौसम में अगर खान-पान का ख्याल नहीं रखा जाए तो ये परेशानी किसी को भी अपनी चपेट में ले लेती है। गले में दर्द एवं खराश के कारण व्यक्ति को कुछ भी निगलने में कठिनाई होती है।

गले की खराश का सबसे ज्यादा असर रात में दिखता है। सोने से गले में कांटे पड़ते हैं, सुबह-सुबह आवाज नहीं निकलती। आप भी मौसम की वजह से होने वाली गले की खराश से परेशान हैं तो हम आपको कुछ देसी उपायों के बारे में बताते हैं जिन्हें अपनाकर आप गले की ख़राश को ठीक कर सकते हैं।

रात को हल्दी का गर्म दूध पीएं:

सोते समय हल्दी का दूध पीए। हल्दी में संक्रमण को दूर करने की क्षमता होती है, जो गले के संक्रमण को ठीक करने में मदद करती है।

काली मिर्च और तुलसी का सेवन करें:

एक कप पानी में 4 से 5 कालीमिर्च एवं तुलसी की 5 पत्तियों को उबालकर काढ़ा बना लें और इस काढ़े को पिएं। इस काढ़े का सेवन रात को करेंगे तो फायदा मिलेगा। काली मिर्च और तुलसी औषधीय गुणों से भरपूर होती है जो गले के संक्रमण को दूर करने में मददगार है।

लहसुन का करें इस्तेमाल:

लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, इसलिए यह गले के संक्रमण को दूर करने में मदद करता है। लहसुन की कली को कुछ देर के लिए अपने दांतों के बीच रखें। इसका रस चूसने से गले को आराम मिलेगा।

गर्म पानी से गरारे करें: 

गले में खराश है तो गुनगुने पानी में नमक डाल कर गरारे करें। गरारे करने से गले की खराश दूर होगी और गले का संक्रमण भी ठीक हो जाएगा। गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करना गले के लिए एक अच्छा इलाज है। 

शहद का करें सेवन:

गले की खराश दूर करने के लिए शहद का सेवन करें। शहद में गले की सूजन और जलन को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं। यह उपाय गले की खराश से राहत दिलाएगा।

                            Written By: Shahina Noor

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021