Move to Jagran APP

बेहद दुर्लभ लेकिन खतरनाक है Bone Cancer, डॉक्टर से बताए इसके लक्षण और इलाज के तरीके

Cancer गंभीर बीमारी है जो दुनियाभर में होने वाली मौत का एक प्रमुख कारण भी है। इसके गंभीर बीमारी के कई प्रकार हैं जिन्हें शरीर के विभिन्न अंगों में होने की वजह से उन्हीं नामों से जाना जाता है। Bone Cancer इन्हीं प्रकारों में से एक है जो इस बीमारी का दुलर्भ लेकिन खतरनाक प्रकार है। ऐसे में डॉक्टर बता रहते हैं इसके कुछ लक्षण और इलाज के विकल्प।

By Harshita Saxena Edited By: Harshita Saxena Tue, 09 Jul 2024 07:27 PM (IST)
डॉक्टर से जानें हड्डी के कैंसर के लक्षण और इलाज के तरीके (Picture Credit- Freepik)

लाइफस्टाइल डेस्क, नई दिल्ली। इन दिनों कैंसर (Cancer) के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। यह एक गंभीर बीमारी है, जो दुनियाभर में कई लोगों को प्रभावित करती है और पूरी दुनिया में मौत का प्रमुख कारण भी है। अगर सही समय रहते इसकी पहचान न की जाए, तो कई मामलों में यह जानलेवा तक साबित हो सकती है। इस बीमारी के कई प्रकार होते हैं, जो शरीर के विभिन्न हिस्सों में होने की वजह से उन्हीं के नामों से जाना जाता है।

हड्डी का कैंसर (Bone Cancer) इन्हीं में से एक है, जो इस बीमारी का दुलर्भ लेकिन खतरनाक प्रकार है। ऐसे में कैंसर के इस गंभीर प्रकार के बारे में विस्तार से जानने के लिए हमने एचसीजी कैंसर सेंटर, बोरीवली (मुंबई) में मेडिकल ऑन्कोलॉजी की विभागाध्यक्ष डॉ. इंदु अम्मबुलकर से बातचीत की और उनसे हड्डी के कैंसर के लक्षणों और इसके इलाज के बारे में जाना।

यह भी पढ़ें-  देशभर में कोहराम मचा रहा Zika Virus, जानें किन तरीकों से कर सकते हैं इससे अपना बचाव

क्या है बोन कैंसर?

हड्डी के कैंसर में असामान्य वृद्धि होती है, जो हड्डियों को कमजोर कर सकती है और शरीर के अन्य भागों में फैल सकती है। यूं तो हड्डी का कैंसर बच्चों और वयस्कों में प्रमुख है, लेकिन यह बीमारी किसी भी उम्र में विकसित हो सकती है। यह कैंसर कठोर हड्डी के टिश्यूज के प्रोडक्शन के लिए जिम्मेदार सेल्स को प्रभावित करता है।

हड्डी के कैंसर के लक्षण

डॉ बताते हैं कि हड्डी के कैंसर के लक्षण अलग-अलग होते हैं, लेकिन आम तौर पर इसमें निम्न शामिल होते हैं-

  • प्रभावित हड्डी या आस-पास के टिश्यूज में लगातार दर्द, हल्के दर्द से लेकर तेज बेचैनी तक हो सकती है। यह दर्द समय के साथ बढ़ता जाता है, जिससे रोजमर्रा के काम करना मुश्किल और नींद के पैटर्न में खलल पड़ता है।
  • हड्डी के पास सूजन या गांठ, अक्सर कोमल, संभावित ट्यूमर के विकास का संकेत देती है।
  • हड्डियां कमजोर होने से मामूली चोट से भी फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है, जिसे पैथोलॉजिकल फ्रैक्चर के रूप में जाना जाता है।
  • कैंसर के कारण रेपिड सेल डिवीजन के कारण हाई मेटाबॉलिज्म रेट के कारण भी वजन में कमी देखी जाती है।

हड्डी के कैंसर के लिए इलाज के विकल्प

  • जब हड्डी के कैंसर का निदान किया जाता है, तो इसके इलाज के लिए ऑर्गन फंक्शन और लाइफ क्वालिटी को संरक्षित करते हुए कैंसर सेल्स को खत्म किया जाता है।
  • इसका इलाज विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें कैंसर के प्रकार, चरण और स्थान के साथ-साथ मरीज का स्वास्थ्य भी शामिल है।
  • स्थानीय हड्डी के कैंसर के प्राथमिक उपचार में ट्यूमर को शल्य चिकित्सा द्वारा हटाना शामिल है।
  • रेडिएशन ट्रीटमेंट का इस्तेमाल अक्सर सर्जरी से पहले ट्यूमर को छोटा करने या सर्जरी के बाद बची हुई कैंसर सेल्स को नष्ट करने के लिए किया जाता है। यह कैंसर सेल्स को टारगेट करने और उन्हें खत्म करने के लिए हाई एनर्जी रेज का इस्तेमाल करता है।इस प्रोसेस से कैंसर के दोबारा होने के जोखिम को कम किया जा सकता है।
  • इसके इलाज के लिए कीमोथेरेपी का भी इस्तेमाल किया जाता है, जो कैंसर सेल्स को मारने या उनकी ग्रोथ को रोकने के लिए दवाओं का इस्तेमाल करती है।
  • हड्डी के कैंसर के प्रभावी उपचार और मरीज के स्वास्थ्य में सुधार के लिए इन लक्षणों के बारे में जागरूकता और इसका शीघ्र पता लगाकर तुरंत इलाज करना जरूरी है।

यह भी पढ़ें- क्या है नेजल पॉलिप्स की समस्या, जिससे हो सकती है सांस लेने में परेशानी