दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। High Blood Pressure: आजकल उच्च रक्तचाप आम समस्या बन गई है। इसे साइलेंट किलर भी कहा जाता है। इसका मुख्य कारण तनाव है। अत्यधिक तनाव लेने से उच्च रक्तचाप की समस्या होती है। इस स्थिति में व्यक्ति को धुंधला दिखाई देने लगता है, सिर में तेज दर्द होता है, नाक से खून गिरने लगता है, छाती में दर्द होता है। साथ ही सांस लेने में असुविधा और घबराहट होती है। इन स्थितियों में तत्काल डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। लापरवाही बरतने से यह बीमारी खतरनाक साबित होती है। अगर आप भी उच्च रक्तचाप के मरीज हैं और हाई बीपी को कंट्रोल करना चाहते हैं, तो शहद का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, शहद के साथ किचन में मौजूद चीजों का सेवन करने से उच्च रक्तचाप में बहुत जल्द आराम मिलता है। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

शहद

जैसा कि हम सब जानते हैं कि शुगर के मरीजों को मीठे चीजों को खाने की मनाही होती है। इसके लिए डॉक्टर डायबिटीज के मरीजों को चीनी के बदले शहद का सेवन करने की सलाह देते हैं। इसमें नायसिन, विटामिन बी-6, विटामिन सी कार्बोहाइड्रेट, राइबोफ्लेविन और एमिनो एसिड पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। इसके अलावा, शहद में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। इसके लिए शुगर के मरीज शहद का सेवन कर सकते हैं।

सोंठ

जानकारों की मानें तो सोंठ में विटामिन ए, विटामिन सी, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फाइबर, फोलिक एसिड और फैटी एसिड आदि आवश्यक पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए लाभदायक होते हैं। इसके सेवन से उच्च रक्तचाप में आराम मिलता है। इसके लिए सोंठ के पाउडर में शहद मिलाकर सेवन करें। हालांकि, सोंठ की तासीर गर्म होती है। इसके लिए सीमित मात्रा में सेवन करें। शहद और सोंठ के सेवन से उच्च रक्तचाप में आराम मिलता है। आप चाहे तो डॉक्टर से सलाह लेने के बाद सोंठ का सेवन करें।

अश्वगंधा

अश्वगंधा सेहत के लिए दवा समान है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा, कई आवश्यक पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। इसके सेवन से मोटापा, मधुमेह और उच्च रक्तचाप में आराम मिलता है। इसके लिए अश्वगंधा के चूर्ण में शहद मिलाकर सेवन कर सकते हैं। यह सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इससे रक्तचाप में बहुत जल्द आराम मिल सकता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट