नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। सेहतमंद रहने के लिए मेटाबॉलिज्म का गतिमान रहना अनिवार्य है। जानकारों की मानें तो शरीर भोजन को ऊर्जा में तब्दील करता है। इस प्रक्रिया को मेटाबॉलिज्म कहते हैं। व्यक्ति दिनभर इसी ऊर्जा का व्यय करता है। इसमें किसी प्रकार की रोक या स्थिरता आने से कई बीमारियां दस्तक देती हैं। मेटाबॉलिज्म धीमा होने से मोटापे की समस्या भी होती है। इसके लिए मेटाबॉलिज्म का सक्रीय रहना बहुत जरूरी है। अगर आप फिट और हेल्दी रहना चाहते हैं, तो मेटाबॉलिज्म बूस्ट करने के लिए रोजाना सौंफ वाला दूध जरूर पिएं। इससे आप हमेशा ऊर्जावान रह सकते हैं। आइए, इसके बारे में विस्तार से जानते हैं-

सौंफ़ के फायदे

एक शोध में यह पाया गया है कि सौंफ़ के बीजों में फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए लाभकारी होते हैं। इस शोध के जरिए यह खुलासा हुआ है कि सौंफ के सेवन से शुगर और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। साथ ही अस्थमा में भी आराम मिलता है। सौंफ की चाय या सौंफ पानी पीने से वजन भी कंट्रोल में रहता है। इसके लिए डायबिटीज समेत अन्य बीमारियों में रोजाना सुबह-शाम सौंफ की चाय, सौंफ पानी और सौंफ वाला दूध पीना फायदेमंद होता है।

दूध के फायदे

डॉक्टर्स हमेशा हड्डियों को मजबूत करने के लिए दूध पीने की सलाह देते हैं। दूध कैल्शियम का मुख्य स्त्रोत माना जाता है। इसके लिए रोजाना एक गिलास दूध जरूर पिएं। वहीं, एक शोध में खुलासा हुआ है कि रोजाना सुबह में दूध पीने से मेटाबॉलिज़्म बूस्ट होता है।

कैसे और कब करें सेवन

डॉक्टर्स हमेशा सुबह में दूध पीने की सलाह देते हैं। इससे मेटाबॉलिज़्म बूस्ट होता है। साथ ही एक चुटकी सौंफ पाउडर मिलाकर पीना ज्यादा उत्तम होता है। सुबह के समय नाश्ते में दूध पीने से ब्लड शुगर दिनभर कंट्रोल में रहता है। यह कार्बोहाइड्रेट्स की पाचन क्रिया को धीरे करने में सफल होता है। इसके लिए रोजाना सुबह में सौंफ वाला दूध जरूर पिएं।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Edited By: Pravin Kumar