नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Monkeypox Symptoms: मंकीपॉक्स, एक ऐसा वायरस है जो तेज़ी से दुनियाभर में फैल रहा है। कोरोना वायरस के चलते अब मंकीपॉक्स के फैलने से लोगों में चिंता बढ़ी है। इसके प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए आपातकालीन उपाय भी शुरू कर दिए गए हैं। हालाकि, मंकीपॉक्स को एक गंभीर संक्रमण नहीं माना जा रहा है, लेकिन हाल ही में आए नए लक्षणों ने डर को बढ़ा दिया है।

बुखार, ठंड लगना, लिम्फ नोड्स में सूजन, चकत्ते, सिर दर्द मंकीपॉक्स के क्लासिकल लक्षण हैं, जो मामूली होने के साथ गंभीर रूप ले सकते हैं। मंकीपॉक्स में होने वाले रैशेज़ हाथों, पैरों और चेहरे के अलावा, गले, जननांग और रेक्टल में भी हो रहे हैं, जिसमें काफी दर्द होता है। साथ ही हाल में मिले कुछ नमूनों के अनुसार, मंकीपॉक्स जानलेवा भी साबित हो सकता है, कुछ मरीज़ों में इससे एन्सेफलाइटिस, दौरे पड़ना, दीर्घकालिक विकलांगता जैसी जटिलताएं देखी गई हैं।।

मंकीपॉक्स से जुड़ी गंभीर जटिलताएं

मंकीपॉक्स के क्लासिकल लक्षणों में रैशेज़ और बुखार शामिल है, लेकिन ऐसा कम देखा गया है जब इसकी वजह से न्यूरोलॉजीकल दिक्कतें जैसे, कंफ्यूज़न, चक्कर आना और कोमा से जूझना पड़े।

ई-क्लीनिकल मेडिसिन में हाल ही में 19 अध्ययनों का दस्तावेजीकरण किया गया, जिसमें 1512 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया और इसमें से 1053 पॉज़ीटिव पाए गए। स्टडी से पता चला कि जो मरीज़ मंकीपॉक्स से जूझ रहे थे, उनमें एन्सेफलाइटिस (मस्तिष्क की सूजन और सूजन का एक रूप), दौरे और भ्रम जैसे लक्षण देखे गए। ऐसे न्यूरोलॉजिकल जटिलताएं लंबे समय तक अक्षमता का कारण बन सकती हैं।

दिमाग और मानसिक स्वास्थ्य पर मंकीपॉक्स का असर

मेडिकल एक्सपर्ट्स के मुताबिक, मंकीपॉक्स के मरीज़ों में मानसिक स्वास्थ्य रोग के संकेत देखे गए हैं। हालांकि, यह साफ नहीं कि ऐसा क्यों हो रहा है। पश्चिमी देशों में किए गए अध्ययनों से मंकीपॉक्स के संक्रमण के बाद लोगों का मूड खराब, चिंता और अवसाद में परिणाम सामने आए हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस दुर्लभ वायरल बीमारी के न्यूरोलॉजिकल और मनोरोग संबंधी प्रभावों के पीछे महामारी विज्ञान और पैथोफिज़ियोलॉजी को समझने के लिए बड़े बहुकेंद्रीय अंतरराष्ट्रीय परीक्षण करने की आवश्यकता है।

Disclaimer: लेख में उल्लिखित सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य सूचना के उद्देश्य के लिए हैं और इन्हें पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। कोई भी सवाल या परेशानी हो तो हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Picture Courtesy: Freepik

Edited By: Ruhee Parvez