कई बार चेहरे पर इस तरह पिग्मेंटेशन हो जाता है कि काफी जद्दोज़हद के बाद भी ठीक नहीं होता और हमारी उम्र 10 साल ज़्यादा दिखने लगती है, तो इससे कैसे बचें और साथ ही हेल्दी स्किन पाने के लिए क्या करना चाहिए, जानने के लिए पढ़ें यह लेख।

1. घर की रोशनी होती है वजह: कई बार लोगों को जानकारी नहीं होती है कि जिस फ्लोरोसेंट लाइट से वे बहुत ज़्यादा एक्सपोज़ हो रहे हैं वह स्किन के लिए कितनी नुकसानदेह है। लैपटॉप, टैबलेट, फोन स्क्रीन, घर के अंदर लगे फ्लोरोसेंट बल्ब्स आदि स्किन के हाइपरपिग्मेंटेशन को ज़्यादा उभारते हैं। थोड़ी देर ही सही धूप में ज़रूर जाएं और त्वचा में नैचरल लाइट को एब्ज़ॉर्ब होने दें।

2. ज़्यादा एक्सफोलिएट करना: स्किन केयर रूटीन में एक्सफोलिएशन ज़रूरी है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप इसे ज़रूरत से ज़्यादा एक्सफोलिएट कर दें। अगर एक्ने वाली स्किन है तब तो यह समस्या और भी ज़्यादा हो जाएगी। हमारी स्किन बैक्टीरिया और कोई अन्य पॉल्यूटेंट के कारण मैली हो जाती है और इसे साफ करना ज़रूरी होता है, लेकिन अगर सफाई भी ज़रूरत से ज़्यादा की जाए तो इससे डैमेजिंग भी हो सकती है। ज़रूरत से ज़्यादा एक्सफोलिएशन हाइपरपिग्मेंटेशन का कारण बन सकता है। एक्सपर्ट्स की मानें तो ड्राई स्किन को हफ्ते में दो बार और ऑयली स्किन के लिए हफ्ते में 1 बार एक्सफोलिएशन काफी होता है।

3. मुंहासों को न छुएं: एक्ने को फोडऩे से भले ही और एक्ने न बढ़ें, लेकिन हाइपरपिग्मेंटेशन और एक्ने स्पॉट्स की समस्या हो जाती है। इन्हें न छुएं।

4. सनस्क्रीन का इस्तेमाल न करना:  सनस्क्रीन का यूज़ करें। लगभग 3-4 घंटों में सनस्क्रीन को दोबारा लगाएं। खासतौर पर आंखों के नीचे ज़रूर लगाएं।

5. नाइट स्किन केयर रूटीन: नाइट स्किन केयर रूटीन हमारी त्वचा पर असरदार तरीके से काम करता है, यह त्वचा को खिला-खिला बनाता है। कुछ प्रोडक्ट स्किन को इरिटेट कर सकते हैं-जैसे एसिडिक टोनर, इससे बचें।

Pic credit- freepik

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021