Confidence Le1el

बढ़ाकर करें परफॉर्म

मैं अपने करियर को लेकर काफी कन्फ्यूज हूं। समझ नहीं पा रहा कि मुझे बिजनेस करना चाहिए या फिर जॉब? मन की बात कहूं तो जॉब की तुलना में बिजनेस में मेरा बहुत कम इंट्रेस्ट है। कॉमर्स ग्रेजुएट होने के साथ-साथ मैंने मार्केटिंग और फाइनेंस में एमबीए भी किया है। घरवाले कम सैलरी वाली नौकरी की बजाय भाई के बिजनेस से जुड़ने पर जोर देते हैं। प्लीज सलाह दें।

सुजय

आप द्वारा भेजे गए विस्तृत पत्र में आपके द्वारा 2 बार नौकरी करने का जिक्र है। कॉमर्स ग्रेजुएट होने के साथ आपके पास एमबीए की डुएल डिग्री भी है। इस तरह देखा जाए, तो आपका एजुकेशन प्रोफाइल काफी रिच लगता है। आप नौकरी और बिजनेस दोनों करके देख चुके हैं। बिजनेस की बजाय नौकरी करना आपको ज्यादा अच्छा लगता है, लेकिन दो बार नौकरी करने और छोड़ने से ऐसा लगता है कि डिग्री होने के बावजूद आप जॉब को कॉन्फिडेंस के साथ नहीं निभा पाए। अगर आपका मन नौकरी में ही रमता है, तो बेहतर होगा कि आप खुद को जॉब मार्केट के मौजूदा ट्रेंड के मुताबिक खुद को स्किल्ड बनाएं। इसके लिए कहीं से शॉर्ट-टर्म ट्रेनिंग करनी पड़ी, तो उसे भी करें। इसके अलावा, वर्कप्लेस पर खुद को प्रूव करने के लिए कम्युनिकेशन स्किल और सॉफ्ट स्किल को डेवलप करने पर भी ध्यान दें। जहां भी काम मिले, वहां सीनियर्स और मैनेजमेंट को अपने काम से कनविंस करें। टीम मेंबर्स के साथ अच्छी ट्यूनिंग बनाएं। कड़ी मेहनत करने और चुनौतियों का सामना करने से पीछे न हटें। अपना कॉन्फिडेंस लेवल हाई रखेंगे, तो काम के साथ-साथ जीवन में भी उत्साह बना रहेगा। इससे आपको पद और सैलरी में भी रेगुलर बढ़ोतरी का रिजल्ट देखने को मिल सकता है। अपने आत्मविश्वास से घरवालों को भी कनविंस करें और उन्हें भरोसे में लेकर कदम आगे बढ़ाएं।

मैं बीकॉम फ‌र्स्ट इयर का स्टूडेंट हूं। आइआइएम में एडमिशन लेना चाहता हूं। प्लीज मुझे बताएं कि आइआइएम में एडमिशन के लिए किस टाइप की प्रिपरेशन करनी चाहिए?

अमन जायसवाल

देश के प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूल आइआइएम यानी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में एडमिशन हासिल करने के लिए कैट (कॉमन एडमिशन टेस्ट) क्लियर करना होता है। इसका आयोजन हर साल नवंबर में कोई एक आइआइएम करता है। यह टेस्ट ऑनलाइन होता है। इसमें एप्टीट्यूड, मैथमेटिक्स और अंग्रेजी नॉलेज की परख की जाती है। बीकॉम के साथ-साथ आप पहले से ही इसकी तैयारी कर सकते हैं, ताकि ग्रेजुएशन पूरा करते ही या फिर ग्रेजुएशन के आखिरी साल में कैट में अपीयर होकर पहले ही प्रयास में इसे क्वालिफाइ कर सकें। कैट में शामिल सब्जेक्ट्स और प्रश्नों के पैटर्न को समझने के लिए आप कैट की वेबसाइट देख सकते हैं।

मैं आइएएस की तैयारी कर रहा हूं। मेरे आस-पास के लोग मुझे हतोत्साहित करते हैं। कहते हैं कि बिना बाहर गए तैयारी नहीं कर सकोगे, जबकि मेरी मजबूरी है कि मैं बाहर नहीं जा सकता। मैं क्या करूं?

संजय भंडारी

लोगों का काम है कहना, उन्हें कहने दें। अगर आपको अपने ऊपर भरोसा है, तो विचलित हुए बिना अपनी तैयारी के मार्ग पर नियमित रूप से चलते रहें। सिविल सर्विसेज के सिलेबस पर फोकस करते हुए सामान्य अध्ययन सहित मेन्स के एक ऑप्शनल सब्जेक्ट की तैयारी अच्छी पुस्तकों और नेशनल लेवल के न्यूज पेपर्स से करें। चूंकि प्रारंभिक परीक्षा में सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (सीसैट) और मुख्य परीक्षा मे जीएस के चार पेपर शामिल किए जाने के बाद इस एग्जाम में लॉजिकल क्षमता और सूझ-बूझ की उपयोगिता बढ़ गई है, इसलिए खुद को इस कसौटी पर आगे बढ़ाएं। आज के समय में बहुत सारी जानकारी ऑनलाइन भी मिल जाती है, जिसे आप अपने मोबाइल फोन के जरिए भी जुटा सकते हैं। ऐसे में बाहर जाकर तैयारी करना या कोचिंग ज्वाइन करना कतई जरूरी नहीं है। अपना आत्मविश्वास ऊंचा रखकर सही दिशा में भरपूर मेहनत करते हैं, तो कामयाबी जरूर मिलेगी। हां, मुश्किलों-अड़चनों से घबराएं नहीं।

मैं 10वीं का स्टूडेंट हूं। मैथ में काफी वीक हूं और इंटरमीडिएट की पढ़ाई आर्ट स्ट्रीम से करना चाहता हूं। प्लीज, मेरा मार्गदर्शन कीजिए।

सूरज उपाध्याय

अगर आपका मैथ में बिल्कुल भी मन नहीं लगता, तो वही करें जिसमें आपका मन रमता है। हां, जो भी करें, उसमें पूरी तरह डूबें और खुद को साबित करके दिखाएं। घरवालों को भी भरोसे में लें और उन्हें विश्वास दिलाएं कि अगर आपको मन की पढ़ाई करने का मौका दिया जाए, तो आप उन्हें निराश नहीं करेंगे। इंटर में भी सब्जेक्ट का चयन करते समय अपनी रुचि और उस सब्जेक्ट में आगे स्कोप का ध्यान जरूर रखें।

- करियर से संबंधित सवाल

counselor@nda.jagran.com पर ईमेल करके पूछ सकते हैं..

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप